Our Chief Minister

हज यात्रियों को सुविधा उपलब्ध कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायें हज समिति

 

माननीय मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास से गुरुवार को झारखण्ड मंत्रालय में अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री डॉ. लुइस मरांडी के साथ अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष कमाल खान तथा झारखण्ड राज्य हज समिति के सदस्यों ने मुलाकात की। इस दौरान मुख्यमंत्री ने हज समिति के सदस्यों से कहा कि हज यात्रा में जाने वाले यात्रियों को सभी सुविधा उपलब्ध कराने में समिति महत्वपूर्ण भूमिका निभाएं। समिति ऐसा कार्य करे कि आने वाले समय में लोग याद रखें।

मुख्यमंत्री ने यह उम्मीद जतायी है कि सभी सदस्य अपने कर्तव्यों का सम्यक निर्वहन करते हुए हज यात्रियों को सुविधा के साथ हज यात्रा कराने में मदद कराएंगे। हज समिति के सदस्यों में मो. काजिम कुरैशी, मो. तनवीर अब्बास, मो. गुलाम गौस, मो. फिरोज अंसारी, मो. एकारूल अंसारी, मो. रिजवान खान, मो. फारूक, मो. मोजिबुर रहमान, इकबाल फातमी एवं इरफान अहमद शामिल थे।

बाबाधाम और बासुकीनाथ का मेला विश्व स्तर पर जाना जाए, ऐसी हो व्यवस्था: सीएम

 

माननीय मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने गुरुवार को पावन श्रावणी मेले के कुशल आयोजन के लिए बाबा बैद्यनाथ धाम बासुकीनाथ तीर्थ क्षेत्र विकास प्राधिकरण के साथ बैठक की। इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि देवघर और बासुकीनाथ का श्रावणी मेला विश्व स्तर पर जाना जाए। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि श्रद्धालुओं को विश्वस्तरीय सुविधाएं मिलें, उन्हें किसी प्रकार की असुविधा का सामना न करना पड़े, ऐसी व्यवस्था हो। साफ-सफाई पेयजल और बिजली की निर्बाध व्यवस्था रहे। ऐसी व्यवस्था हो कि कांवड़ि‍यों को लगे कि वे देवभूमि में प्रवेश कर रहे हैं।

“प्रशासन इस बात का ख्याल रखे कि दिव्यांगजनों को पूजा करने में कोई परेशानी नहीं आये। सभी पंडालों में मंदिर कमेटी या सिविल डिफेंस के लोगों को हमेशा तैनात करें। पानी की निकासी का और साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखा जाए। पवित्र शिवगंगा को स्वच्छ रखा जाए।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि मेला की इंटीग्रेटेड मॉनिटरिंग सिस्टम हो। मुख्यमंत्री कार्यालय में इसे लाइव देखा जाएगा तथा इसका पर्यवेक्षण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि मेला के संचालन में अधिक से अधिक जन भागीदारी बढ़ाई जाए।  सामाजिक संगठनों और राजनीतिक दलों के साथ भी बैठक किया जाए। NCC स्काउट एंड गाइड आदि को भी जोड़ा जाए। उन्होंने कहा कि बाबा बैद्यनाथ धाम और बासुकीनाथ के लिए एक डीआईजी मेला प्रभारी रहेंगे, जो ट्रैफिक सहित संपूर्ण प्रबंधन को देखेंगे। मेला के दौरान शिल्पग्राम हैंडीक्राफ्ट मेला लगे, जिसमें जनजातीय समुदायों द्वारा बनाई जाने वाली सामग्रियों की पूरी ब्रांडडिंग हो तथा उसे बिक्री के लिए रखा जा सके।

“संथाल  परगना के सभी प्रोडक्ट्स जैसे अगरबत्ती, चप्पल और हैंडीक्राफ्ट के सामानों की बिक्री को प्रोमोट करें। आदिवासी इलाकों में रहने वाले लोग हस्तकलाओं में दक्ष होते हैं, उन्हें मार्केट उपलब्ध करवाएं। इससे पूरे देश में हमारे प्रोडक्ट्स की ब्रांडिंग होगी।”

माननीय मुख्यमंत्री ने मेला की तैयारियों की समीक्षा के दौरान कहा कि साफ-सफाई, रूट लाइनिंग आदि की पूरी निगरानी की जाए। पुलिस के जवान तीन शिफ्ट में काम करें। पूरे भक्ति भाव से कार्य हो। सभी अधिकारी अलर्ट रहें, धैर्य रखें तथा आपस में समन्वय बनाए रखें। मेला का प्रचार-प्रसार राष्ट्रीय स्तर पर हो। कांवड़ि‍यों के लिए की जाने वाली व्यवस्था को भी प्रमुखता से दर्शायें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मेला के बाद एक उच्चस्तरीय बैठक होगी, जिसमें आने वाले 50 वर्षों की जरूरतों के हिसाब से तैयारियों और आधारभूत संरचना तैयार किया जाए। पर्यटक तभी आएंगे जब हम अपने धार्मिक स्थलों को विकसित करेंगे। बासुकीनाथ मंदिर प्रांगण में स्थाई CCTV लगाने के लिए 15 लाख रुपये दिये जाएंगे। डाकबम श्रद्धलुओं के लिए 108 एम्बुलेंस तैनात रहें। शिवगंगा और प्रांगण के आसपास अच्छी लाइटिंग करवाएं। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी शौचालयों पर लोक चित्रकला की चित्रकारी की जाए। पूरे क्षेत्र में साफ-सफाई हेतु 400 सफाई मित्रों को तैनात किया जाए।

“कांवड़ि‍यों के लिए जगह-जगह हेल्थ चेकअप शिविर लगाए जाएं। पेयजल की व्यवस्था के लिए पानी टंकी इत्यादि की व्यवस्था सुनिश्चित करें। बासुकीनाथ धाम की सभी दुकानें सुव्यवस्थ‍ित हो। मानसरोवर का भी सौन्दर्यीकरण करें।”

बैठक में मंत्री श्री अमर कुमार बाउरी, मंत्री श्रीमती लुईस मरांडी, सांसद श्री निशिकांत दुबे तथा विधायक श्री बादल ने महत्वपूर्ण सुझाव दिये। देवघर तथा दुमका के उपायुक्त ने एक प्रजेंटेशन के माध्यम से तैयारियों के बाबत जानकारी दी। बैठक में इनके अलावा विधायक जरमुंडी श्री बादल पत्रलेख, मुख्य सचिव श्री सुधीर त्रिपाठी, गृह सचिव श्री एसकेजी रहाटे, डीजीपी श्री डीके पांडे, एडीजी श्री अनुराग गुप्ता, पुलिस महानिरीक्षक श्री आशीष बत्रा, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री सुनील कुमार वर्णवाल, पर्यटन सचिव श्री मनीष रंजन, पूर्व सांसद श्री अभयकांत प्रसाद, उपायुक्त दुमका श्री मुकेश कुमार, उपायुक्त देवघर श्री राहुल कुमार, पंडा धर्म रक्षिणी सभा के सदस्य सहित प्राधिकार के अन्य सदस्य उपस्थित थे।

झारखण्ड ने फिर रचा इतिहास, REFORM EVIDENCE SCORECARD में देश में बना नंबर वन

 

झारखण्ड ने एक बार फिर इतिहास रचा है। Ease of Doing Business रैंकिंग में झारखण्ड देश के अग्रणी 4 राज्यों में शामिल हो गया है। पिछली बार झारखण्ड की रैंकिंग 7 थी जो इस बार बढ़कर 4 हो गई है। वहीं, कार्यान्वयन (इम्प्लीमेंटेशन) Ease of Doing Business रैंकिंग में झारखण्ड ने 100 प्रतिशत अंक लाते हुए प्रथम स्थान हासिल किया है। फीड बैक की दृष्टि से Ease of Doing Business रैंकिंग में झारखण्ड ने 97.99% अंक लाते हुए पूरे देश मे चौथा स्थान हासिल किया है।

मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने कहा कि सरकार की निवेश अनुकूल नीतियों के चलते ही यह संभव हो सका है। हमारा लक्ष्य राज्य में उद्योगों का जाल बिछाकर रोजगार सृजन करना है ताकि गरीबी को जड़ से खत्म किया जा सके। इसके लिए टीम झारखण्ड और राज्य की सवा तीन करोड़ जनता को बधाई।

माटी कला से जुड़े लोगों को इलेक्ट्रिक चाक और भट्टा उपलब्ध कराएगी सरकार

 

माननीय मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने मंगलवार को कहा कि राज्य के किसानों को इलेक्ट्रिक चाक और इलेक्ट्रिक भट्टा उपलब्ध कराया जाएगा। प्रजापति समाज के लोगों को प्रशिक्षित कर आज की जरूरत के अनुसार उत्पाद तैयार कराये जाएंगे। आर्थिक मदद में मुद्रा लोन के माध्यम से लोन उपलब्ध कराने में सरकार मदद करेगी। मुख्यमंत्री ने ये बातें झारखण्ड माटी कला बोर्ड की समीक्षा बैठक में कही।

 

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले चरण में छह जिलों रांची, बोकारो, पूर्वी सिंहभूम, गोड्डा, पलामू व जामताड़ा को मॉडल के रूप में विकसित किया जाएगा। यहां बोर्ड के सदस्य जाकर प्रजापति समाज की सूची बनाएंगे। जो इलेक्ट्रिक चाक लेना चाहते हैं उन्हें सब्सिडी में चाक उपलब्ध कराया जाएगा। साथ ही इन जिलों में इलेक्ट्रिक भट्टा लगाया जाएगा, जहां वे अपने उत्पाद पका सकेंगे।

“दूसरे राज्यों के अच्छे ट्रेनर बुलाकर इन छह जिलों के 5-5 लोगों को मास्टर ट्रेनर बनाया जाएगा। ये मास्टर ट्रेनर अन्य लोगों को प्रशिक्षित करेंगे।”

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार बाजार भी मुहैया कराएगी। इसके लिए अरबन हाट, प्रखंड हाट और पर्यटक स्थलों में बनाए जा रहे हाट में इनके उत्पादों के लिए अलग से स्थान निर्धारित किया जाएगा। इसके साथ ही झारक्राफ्ट और खादी बोर्ड के माध्यम से भी इनके उत्पाद बेचे जाएंगे।

 

“मिट्टी के उत्पाद तैयार करने में जो राज्य इसमें अच्छा कर रहे हैं, उनका मॉडल एडॉप्ट करें। मुद्रा लोन के साथ ही पिछड़ा वित्त निगम के माध्यम से भी आर्थिक सहायता की जाएगी। 50 हजार से एक लाख रुपये तक का लोन लेने के लिए उन्हें बैंक-बैंक दौड़ना नहीं पड़ेगा।”

बैठक में बोर्ड के अध्यक्ष श्री चंद प्रजापति, मुख्य सचिव श्री सुधीर त्रिपाठी, विकास आयुक्त श्री डीके तिवारी, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री सुनील कुमार वर्णवाल, कृषि सचिव श्रीमती पूजा सिंघल झारक्राफ्ट के एमडी श्री मंजूनाथ भजयंत्री समेत अन्य लोग उपस्थित थे।

नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में चार वर्षो में देश का सर्वांगीण विकास हुआ: रामटहल चौधरी

प्रकाशनार्थ

नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में चार वर्षो में देश का सर्वांगीण विकास हुआ: रामटहल चौधरी

आरटीसी कॉलेज सभागार में भारतीय जनता पार्टी रांची महानगर एवं ग्रामीण जिला के द्वारा कांके विधान सभा की लाभुक सम्मेलन को संबोधित करते हुए उक्त बातें सांसद रामटहल चौधरी ने कहा। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार की बीते चार वर्षों में देश की आर्थिक संरचना बहुत मजबूत हुई है जिसके चलते भारत का गौरव विदेशों में भी बढ़ा है।

यह हर भारतीयो के लिए गौरव की बात है।भाजपा प्रदेश महामंत्री दीपक प्रकाश ने कहा कि समाज के अंतिम व्यक्ति तक आज जितनी योजनाओं का लाभ मिल रहा है आजादी के बाद इतना कभी किसी सरकार द्वारा गरीब को योजनाओ का लाभ नहीं मिल पाया,इसलिए यह सरकार गरीबों की सरकार सिद्ध हुई ।कांके के विधायक डॉ जीतू चरण राम ने कहा कि गांव से लेकर शहर तक हर क्षेत्र में बीते चार वर्षों में विकास ही विकास हुआ है जो धरातल पर दिखाई देता है। महानगर अध्यक्ष मनोज मिश्रा  ने कहा कि संगठन और सरकार दोनों के सामंजस्यता से बड़ी तेजी से हर छेत्र में विकास को अमली जामा पहनाया जा रहा है ।

ग्रामीण जिला अध्यक्ष रणधीर चौधरी ने कहा कि उज्ज्वला योजना प्रधानमंत्री आवास योजना इंद्रधनुष योजना से गरीबों को बहुत लाभ मिला है। उपमहापौर संजीव विजयवर्गीय ने कहा कि शहर हो या गांव गरीबो को दी जाने वाली हर प्रकार सरकारी सुविधाओं का वितरण नियमित हो रहा है।
लाभुक सम्मेलन का संचालन भाजपा रांची महानगर के महामंत्री के. के. गुप्ता ने धन्यवाद ज्ञापन अजय अग्रवाल ने किया।इस अवसर पर प्रमुख रूप से राजाराम महतो,मनोज महतो बाजपेयी,बलशाई महतो,डॉ बिरेन्द्र बहादुर,रामलगन राम,उमेश राय,मनोज गुप्ता,सज्जन अग्रवाल,बिप्पीन कुमार,वार्ड पार्षद वीणा अग्रवाल,हुस्ना आरा,संजय महतो,रंजन पासवान,आदि उपस्थित थे।कार्यक्रम के बाद 70 लाभुकों को उज्जवला योजना अन्तर्गत गैस सिलिंडर एवं चूल्हा का वितरण मंचस्थ नेताओ द्वारा  किया गया।

भवदीय
के के गुप्ता

स्वरोजगार के लिए नहीं होगी फंड की कमी, अधि‍कारी कैंप लगाकर दें ऋण: रघुवर दास

 

माननीय मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने शुक्रवार को कहा कि झारखण्ड में रोजगार के सृजन और स्वरोजगार को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार लगातार प्रयासरत है। सरकार की ये भी कोशिश है कि अनुसूचित जनजाति, अनुसूचित जाति और पिछड़े वर्ग के युवाओं के लिए ऐसी व्यवस्था हो कि वो आसानी से अपने सपने को पूरा कर सकें। उनके सामने संभावनाओं, संसाधनों और वित्तीय कमी जैसी परेशानियां ना हो। मुख्यमंत्री ने ये बातें झारखण्ड मंत्रालय में अधिकारियों के साथ बैठक के दौरान कही।

मुख्यमंत्री ने कहा कि युवाओं को अपना व्यापार शुरू करने के लिए ऋण लेने में दिक्कत आ रही है, जबकि सरकार ने इसके लिए विभिन्न वर्गों के लिए वित्त निगम का गठन किया है। इन निगमों के गठन का मकसद है कि युवाओं को स्वरोजगार के लिए आसानी से ऋण मुहैया कराया जा सके, लेकिन इसकी जानकारी सभी को नहीं है। इस संबंध में जागरूकता फैलाने की जरूरत है। मुख्यमंत्री ने कल्याण विभाग के अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि स्वरोजगार के लिए ऋण का आवेदन करने वाले युवाओं को कैंप लगाकर ऋण का वितरण करें। इसका फायदा ये होगा कि इससे इस योजना का प्रचार प्रसार हो सकेगा और उनमें स्वरोजगार के लिए प्रोत्साहित किया जा सकेगा।

“सरकार का लक्ष्य है कि हर वर्ग के लोगों का जीवन स्तर ऊंचा उठे। युवा अपना व्यापार करना चाहते हैं। लेकिन वित्तीय सहायता नहीं मिलने के कारण सफल नहीं हो पाते हैं। वित्तीय मदद मिलने से उन्हें व्यापार शुरू करने में आसानी होगी। साथ ही वे कई लोगों को रोजगार भी दे सकेंगे।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि आदिवासी, जनजाति एवं पिछड़ा वर्ग के युवाओं को बैंक से लोन लेने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ती है। कई बार उन्हें बेवजह भी परेशान किया जाता है। ऐसे युवाओं के लिए सरकार ही सहारा है। इसी को देखते हुए वित्त निगम का गठन किया गया था। लेकिन जानकारी ना होने की वजह से जरुरतमंद इसका लाभ नहीं ले पा रहे हैं। जरूरत होगी, तो सरकार इन निगमों को और फंड आवंटित करेगी।

“पूंजी के अभाव में कोई युवा बेरोजगार न रहे, यह हमारा प्रयास है। गरीब-आदिवासी लोन चुकाते हैं। उनके लिए स्वाभिमान से बड़ा कुछ नहीं है, इसलिए पैसे वापसी की चिंता नहीं करें।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में इनके नाम पर केवल राजनीति होती रही है, लेकिन इनकी सुध किसी ने नहीं ली। सरकार इन युवाओं के अपने पैर पर खड़े होने में मदद करेगी। बैठक में मुख्य सचिव श्री सुधीर त्रिपाठी, वित्त विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री सुखदेव सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री सुनील कुमार वर्णवाल और कल्याण सचिव श्रीमती हिमानी पांडेय उपस्थित थीं।

सभी बेघर टाना भगतों को तीन-तीन कमरे का घर बनाकर देगी सरकार: सीएम

 

माननीय मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने गुरुवार को कहा कि टाना भगतों ने आजादी की लड़ाई में बढ़-चढ़ कर भाग लिया। उनके हित में काम कर सरकार कोई अहसान नहीं कर रही है, यह उनका हक है। सरकार उनकी ऋण को उतारने का काम कर रही है। टाना भगतों के विकास के लिए सरकार ने एक अलग प्राधिकार का गठन किया है। यह प्राधिकार उनकी समस्याओं के समाधान के लिए काम कर रहा है। मुख्यमंत्री ने ये बातें बनहोरा हेहल में टाना भगत अतिथि गृह के शिलान्यास के बाद लोगों को संबोधित करने के दौरान की।

“प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सभी बेघर टाना भगतों को सरकार तीन-तीन कमरे का घर बनाकर देगी। जमीन के निबंधन के दौरान जो जीएसटी की राशि लग रही है, उसे टाना भगत विकास प्राधिकार वहन करेगा। इसी प्रकार झारखण्ड रक्षा शक्ति विश्वविद्यालय के एक वर्षीय कोर्स में टाना भगत के बच्चों का दाखिला कराया जा रहा है। इसके नामांकन व अन्य मद में होने वाली खर्च को राज्य सरकार वहन करेगी। टाना भगतों की मांग पर छात्रावास भी खोला जाएगा।”  

मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्ववर्ती सरकारों ने टाना भगतों, आदिवासियों और गरीबों को छलने का काम किया है। स्वतंत्रता आंदोलन के लिए एक परिवार को ही श्रेय दिया जाता रहा है। यह हजारों गुमनाम स्वतंत्रता सेनानियों के साथ अन्याय है। हमारे गरीब पूवर्जों ने भी देश की आजादी के लिए खून बहाया है। आदिवासियों ने अंग्रेजों के खिलाफ उलगुलान किया। सभी के प्रयासों से ही आजादी मिली है। इसी को ध्यान में रखते हुए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने केंद्र के मंत्रियों को गुमनाम स्वतंत्रता सेनानियों के गांव में जाकर कार्यक्रम करने का निर्देश दिया था। इसी कड़ी में गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने भगवान बिरसा मुंडा के जन्म स्थल उलिहातू जाकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की थी।

 

“हमारी सरकार गरीब, आदिवासी, किसान के नाम पर राजनीति नहीं करती है। हम उनका हक दिलाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। टाना भगतों के लिए हो रहे विकास कार्यों में किसी प्रकार की कोताही सरकार बर्दाश्त नहीं करेगी।” 

कार्यक्रम में पूर्व विधायक श्री गंगा टाना भगत ने कहा कि वर्तमान सरकार ने जितना काम टाना भगतों के लिए किया, अब तक किसी सरकार ने नहीं किया। इस सरकार में ही टाना भगत विकास प्राधिकार का गठन किया गया है। अपने वादे के मुताबिक मुख्यमंत्री जी ने टाना भगतों के आराम के लिए अतिथि गृह के निर्माण कार्य का शिलान्यास किया। कार्यक्रम में सांसद श्री रामटहल चौधरी, हटिया विधायक श्री नवीन जायसवाल, निबंधन एवं भूमि सुधार विभाग के सचिव श्री केके सोन, भवन निर्माण विभाग के सचिव श्री सुनील कुमार समेत अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

योग ने पूरी दुनिया को स्वस्थ रहने का संदेश दिया- रघुवर दास

 

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के  मौके पर रांची के प्रभात तारा मैदान में आयोजित मुख्य समारोह में मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने केन्द्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी के साथ योग किया। योगाभ्यास के बाद कार्यक्रम में आए लोगों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने कहा कि योग के माध्यम से पूरे विश्व को स्वस्थ रहने का संदेश भारत दे रहा है। पूरे झारखण्डवासियों को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की शुभकामनाएं देते हुए मुख्यमंत्री  ने कहा कि हमें स्वस्थ झारखण्ड बनाना है।

मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने कहा कि मनुष्य केवल एक शरीर नहीं है, बल्कि यह मन और आत्मा का संसार है। योग केवल शरीर के साथ मन की शान्ति और आत्मा को पूर्ण विस्तार भी देता है। यह सुख और खुशी प्राप्त करने का भी सच्चा माध्यम है।

 

श्री रघुवर दास ने कहा कि प्रधानमंत्री जी ने योग को समस्त विश्व में आधिकारिक मान्यता दिलाई है, जिससे आज योग का सम्पूर्ण विश्व में विस्तार हो गया है।

इस मौके पर अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय के केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि योग सेहत के खजाने की गोल्डन चाभी है। हमारे प्रधानमंत्री की पहल पर आज हर भारतवासी गौरवान्वित है। उसकी सदियों पुरानी उपलब्धि को पूरा विश्व न केवल मान रहा है, बल्कि उसका अनुसरण कर रहा है।

 

मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास की तारीफ करते हुए केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि वह स्वयं योग के पथ प्रदर्शक हैं और हम सभी के लिए प्रेरणा के स्रोत भी हैं।

इस अवसर पर राज्य के स्वास्थ्य मंत्री श्री रामचन्द्र चंद्रवंशी ने कहा कि योग के माध्यम से राष्ट्र निर्माण के साथ जीवन में सदाचार को बढ़ावा मिल रहा है। ध्यान और समाधि के महत्व को दुनिया समझ रही है। स्वास्थ्य विभाग की प्रधान सचिव श्रीमती निधि खरे ने कहा कि सभी लोगों को प्रतिदिन के जीवन का अंग योग को बनाना चाहिए।

धुर्वा के प्रभात तारा मैदान में मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास के अलावा अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय के केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी के साथ राज्य सरकार के नगर विकास मंत्री श्री सीपी सिंह, स्वास्थ्य मंत्री श्री रामचंद्र चंद्रवंशी, रांची के सांसद श्री राम टहल चौधरी, हटिया के विधायक श्री नवीन जयसवाल, कांके विधायक श्री जीतू चरण राम, अल्पसंख्यक कल्याण आयोग के अध्यक्ष कमाल खां, झारखंड राज्य खादी ग्रामोद्योग बोर्ड के अध्यक्ष श्री संजय सेठ, रांची की मेयर श्रीमती आशा लकड़ा, राज्य के मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी, पुलिस महानिदेशक डी के पांडे, स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव श्रीमती निधि खरे,राज्य सरकार के आला अधिकारियों एवं कर्मचारियों, पुलिस तथा अर्धसैनिक बलों के जवान, सरकारी तथा निजी विद्यालयों के विद्यार्थियों एवं शिक्षकों, विभिन्न संस्थाओं के स्वयंसेवकों, योग प्रशिक्षकों सहित बड़ी संख्या में लोगों ने योगाभ्यास किया।

सरकार की नीयत और नीति साफ है, हम जनभागीदारी से विकास के हिमायती हैं: मुख्यमंत्री

 

मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने बुधवार को कहा कि सरकार की नीयत और नीति साफ है। सरकार जनभागीदारी से विकास की हिमायती है। यही वजह है कि विकास मेला का आयोजन कर सरकार की योजनाओं का लाभ जरूरतमंदों तक पहुंचाया जा रहा है। इसका दूसरा पहलू यह भी है कि जरूरतमंद लोग सरकार की योजनाओं से अवगत होकर उसका लाभ लें, क्योंकि सरकार का उद्देश्य ही है गरीबी उन्मूलन। सरकार आपकी है, आपके जीवन में बदलाव लाने हेतु सरकार धन की कमी नहीं होने देगी। विकास में आप अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें। मुख्यमंत्री ने ये बातें जामताड़ा स्थित दुलाडीह मैदान में आयोजित विकास मेला सह प्रदर्शनी शिविर में कही।

आंधी और बारि‍श के बीच कार्यक्रम को संबोधि‍त करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि ये आंधी विकास की आंधी है, जो पूरे राज्य में बह रही है। सरकार हर गांव, शहर और पूरे राज्य के सर्वांगीण विकास के लिए कृतसंकलिप्त है। पिछले कुछ वर्षों में सरकार ने हर क्षेत्र में विकास की एक नई परिभाषा को लिखा है। राज्य के लोग बहुत भोले हैं। यहां के लोगों को सिर्फ विकास से मतलब है जिसपर सरकार निरंतर कार्य कर रही है। पहली बार सरकार ने लोगों के दर्द को समझा है। सरकार सभी वर्गों के लोगों को ध्यान में रखकर योजना बना रही है ताकि सभी लोगों को सरकार की योजना का लाभ मिले। सभी का सर्वांगीण विकास हो सके। उन्होंने कहा कि साढ़े तीन साल में सरकार ने राम राज्य स्थापित करने का दावा नहीं किया है, लेकिन हर क्षेत्र में एक से बढ़कर एक कार्य किए हैं।

“पहले बिचौलियों की वजह से गरीब को लाभ नहीं मिला पाता था। सरकार ने बिचौलियों को खत्म करने का कार्य किया है। सरकार सीधे लाभुक के खाते में योजना की राशि भेज रही है। इससे बिचौलियों की रात की नींद उड़ गई है।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य की आधी आबादी का जब तक भला नहीं होगा तब तक राज्य का भला नहीं हो सकता। महिलाओं के सर्वांगीण विकास के लिए सरकार निरंतर कार्य कर रही है। कई योजनाओं के माध्यम से उन्हें सशक्त किया जा रहा है। सरकार स्वरोजगार से जोड़कर महिलाओं को सशक्त एवं स्वावलंबी बनाने का कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि हर जिला में पॉल्ट्री फेडरेशन सोसाइटी बनेगी। आने वाले समय में विकास की इस गति को और तेज़ करना है। माननीय प्रधानमंत्री जी के सपनों को हम सभी को मिलकर पूरा करना है। उन्होंने कहा कि महिलाओं को सम्मान देने का कार्य हमारी सरकार ने किया है आज उसकी चर्चा हर जगह हो रही है। प्रधानमंत्री आवास योजना, शौचालय योजना या फिर उज्ज्वला योजना सभी योजनाएं महिलाओं को ध्यान में रखकर बनाई गई है।

“महिलाओं को अब लकड़ी चुनकर या धुआं के बीच खाना बनाने की जरूरत नहीं है। 15 हजार महिलाओं को रेडी टू ईट योजना से जोड़ा जाएगा। महिलाओं को 90% अनुदान पर 2 गाय उपलब्ध कराया जा रहा है, युवाओं को भी इस योजना के तहत 50% अनुदान पर गाय दी जा रही है। बकरी पालन और अंडा उत्पादन के लिए सरकार महिलाओं को 4 लाख रुपये प्रदान कर रही है। साथ ही उनके लिए बाजार भी उपलब्ध कराया जा रहा है।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य की महिलाओं को चूल्हे की धुआं से मुक्त करने के लिए वर्ष 2018 के अंत तक 34 लाख LPG सिलेंडर और साथ में चूल्हा का वितरण करने का लक्ष्य तय किया गया है। मुझे इस बात की खुशी है कि आज जामताड़ा की 30 हजार महिलाओं को इस योजना से आच्छादित किया गया। सरकार उज्ज्वला योजना के तहत एलपीजी गैस कनेक्शन दे रही है। झारखण्ड सरकार पहली ऐसी सरकार है जो एलपीजी गैस कनेक्शन के साथ चूल्हा मुफ्त लाभुकों को दे रही है।

“संथाल परगना के लोग सीधे और सरल हैं। संथाल के युवाओं से मैं यह अपील करता हूं कि संथाल परगना को बदलने में आप सहयोग करें। आप समय के साथ खुद को अपनी सोच में सकारात्मक बदलाव लाएं, नहीं तो हम पीछे रह जाएंगे। अगर समय के साथ परिवर्तनशील हुए तो आने वाले समय में संथाल परगना विकास के मानचित्र में स्वतः स्थापित हो जाएगा। सरकार आदिवासियों के हित में कार्य कर रही है।”

श्री रघुवर दास ने कहा कि आपने मुझ गरीब को अपना मुखिया भले चुना हो, लेकिन मैं आपके दर्द को महसूस करता हूं और समझता हूं। सरकार गरीबी उन्मूलन योजना बना रही है ताकि गरीब का भला हो सके। गरीब के विकास के लिए सरकार कुछ भी करेगी।

“सरकार दिसम्बर 2018 तक हर घर तक बिजली पहुंचायेगी। राज्य के 1500 किलोमीटर सड़क का निर्माण गांव को जोड़ने के लिए होगा। सरकार हर गांव को संपर्क रास्ते से जोड़ने का कार्य कर रही है। आने वाले समय में एक विकसित झारखण्ड और गरीबी से मुक्त झारखण्ड बनाने का जो हमारा संकल्प है हम उसे पूरा करेंगे।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य और देश में जो विकास की राजनीति चल पड़ी है उसे और गति देना है। साढ़े तीन साल के कार्यकाल में कृषि, आईटी, पर्यटन, इंफ्रास्ट्रक्चर समेत सभी क्षेत्रों में कार्य हुआ है। संथाल परगना का विकास राज्य सरकार की प्राथमिकताओं में से एक है। यही वजह है कि देवघर में एम्स और एयरपोर्ट निर्माण के लिए शिलान्यास किया गया। जनवरी 2019 तक यहां आपातकालीन सेवा और ओपीडी शुरू करने का पूर्ण प्रयास होगा। पर्यटन को भी बढ़वा देकर अधिक से अधिक लोगों को रोजगार व स्वरोजगार से जोड़ने की योजना है। 2018 तक बिजली व्यवस्था दुरुस्त हो, इसके लिए वितरण और संचरण लाइन को दुरुस्त किया जा रहा है। सरकार को इस बात का आभास है कि फिलहाल बिजली से आप सभी को परेशानी हो रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जामताड़ा को बेहतर और समृद्ध जिला बनाना है। हाल की दिनों में जामताड़ा की चर्चा गलत कार्य करने में किया गया। यह ठीक नहीं है। क्या आपको अपने जामताड़ा की बदनामी अच्छी लगती है? जरा सा अनैतिक कार्य कर जामताड़ा को बदनाम करने वाले एक बात समझ लें, अनैतिक ढंग से अर्जित किया धन आपको चैन से सोने नहीं देगा। गलत करने वाले लोगों को सरकार किसी कीमत पर नही छोड़ेगी। उनकी संपत्तियों को जब्त किया जाएगा।

“युवा गलत कार्य न करें। अपनी काबिलियत को सही पहचान दें। सरकार आपको बेहतर प्लेटफॉर्म उपलब्ध कराएगी। रोजगार उप्लब्ध कराएगी। इसलिए भटके हुए लोग आप लौट आएं सरकार आपको रोजगार देगी।”

कार्यक्रम में माननीय मंत्री कृषि, पशुपालन एवं सहकारिता विभाग श्री रणधीर कुमार सिंह, मंत्री समाज कल्याण श्रीमती लुइस मरांडी, पूर्व मंत्री श्री सत्यानंद झा बाटुल सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

इस वर्ष 12.5 लाख किसानों को KCC देने का लक्ष्य, अब तक 11.41 लाख किसानों को मिल चुका है लाभ

 

माननीय मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने बुधवार को कांके स्थित गागी गांव में प्रखंड कृषि महोत्सव सहकृषि चौपाल का शुभारंभ किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि किसान अन्नदाता हैं। उनके जीवन में खुशहाली लाना हमारा लक्ष्य है। आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य रखा है। झारखण्ड सरकार इसी लक्ष्य को पाने की दिशा में तेजी से काम कर रही है। इसके लिए गांव-गांव तक अच्छी सड़क, सिंचाई और बेहतर बिजली सुविधा पहुंचाने का काम चल रहा है। कुछ समय लग रहा है, लेकिन अगले साल जनवरी से किसानों के लिए अलग कृषि फीडर बनाने का काम शुरू होगा। वहीं, इस वर्ष 12.5 लाख किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड (KCC) देने का लक्ष्य रखा गया था, जिसमें से 11.41 लाख किसानों का इसका लाभ दिया जा चुका है। इसी प्रकार 25 लाख किसानों को मृदा परीक्षण कार्ड देने के लक्ष्य में से चार लाख कार्ड का वितरण किया जा चुका है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में गांव-गांव तक संपर्क रास्ता बनाने के लिए 1500 करोड़ रुपये का कर्ज लिया गया है। इससे 15000 किमी सड़क बनायी जाएगी।  इसी प्रकार सिंचाई सुविधा बढ़ाने के लिए इस साल 2000 तालाबों का जीर्णोद्धार किया जा रहा है। पिछले साल राज्य में छह लाख डोभा बनाये गये। इससे भूमिगत जल की स्थिति में भी सुधार हुआ। बिजली व्यवस्था में सुधार के लिए काम चल रहा है।

“झारखण्ड में 60 ग्रिड, 257 सब स्टेशन की जरूरत है। इनका निर्माण हो रहा है। जर्जर तारों को पहली बार बदला जा रहा है। दिसंबर 2018 तक झारखण्ड के घर-घर में बिजली होगी।”  

श्री रघुवर दास ने कहा कि किसान काफी मेहनत करते हैं। बिचौलिया और दलालों के कारण उन्हें उपज का सही मूल्य नहीं मिलता है। बिचौलिया और दलालों से मुक्त कराने के लिए तकनीक को बढ़ावा दिया जा रहा है। किसान मोबाइल की मदद से दूसरी मंडी में उत्पाद की कीमत जान सकते हैं। राज्य के प्रखंडों में कोल्ड रूम खोले जा रहे हैं। मंडी बनाने में भी किसानों की मदद ली जाएगी।

“किसानों की आय केवल कृषि की मदद से नहीं बढ़ायी जा सकती। पशुपालन-मत्स्य पालन और बागवानी भी इसमें मददगार साबित होंगे। किसान गौ पालन करें, सरकार इसमें मदद करेगी। युवा समूह बनाकर डेयरी फार्म खोलें। इसके लिए सब्सिडी दी जा रही है। दूध बेचने के लिए कहीं जाने की जरूरत नहीं होगी। सरकार मेधा डेयरी के माध्यम से यह दूध खरीद लेगी।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ विकास विरोधी नेता लोगों के बीच झूठ फैला रहे हैं। भूमि अधिग्रहण संशोधन मामले में मुआवजे की राशि के लिए अब लोगों को दो-तीन साल का इंतजार नहीं करना होगा। उन्हें अधिकतम आठ माह में मुआवजा मिल जाएगा। सरकारी विकास कार्यों के लिए भूमि समय पर मिलने से स्कूल, कॉलेज, बिजली सब स्टेशन, ग्रिड, कैनाल, सड़क आदि के निर्माण में तेजी आएगी। गरीबों के जीवन में बदलाव आएगा। उनके बच्चे स्कूलों में पढ़ सकेंगे। गांव में अस्पताल बनने से बीमार होने पर शहरों के चक्कर नहीं काटने होंगे। सड़क बनने से किसानों को अपने उत्पाद शहरों तक लाने में आसानी होगी। बिजली मिलने से गांव की अर्थव्यवस्था में व्यापक बदलाव आएगा। लेकिन कुछ लोगों को केवल राजनीति करनी है, उन्हें लोगों की भलाई से कोई मतलब नहीं है।

कार्यक्रम में कृषि मंत्री श्री रणधीर सिंह, सांसद श्री रामटहल चौधरी, कांके विधायक डॉ. जीतूचरण राम, कृषि विभाग की सचिव श्रीमती पूजा सिंघल समेत बड़ी संख्या में कृषक उपस्थित थे।