3 Years of NDA Government

भाजपा सरकार के तीन साल-बेमिसाल – झारखण्ड के नजरिये से

 

सबका साथ सबका विकास:-

सरकार और सहकार को प्रति दिन भारत की वास्तविकता बनाती भाजपा नीत संप्रग सरकार के 3 वर्ष , 26 मई को पूरे हो रहे हैं।  21 वीं सदी के अभिनव भारत की नींव प्रतिदिन सुदृढ़ की जा रही है।  योजनाओ और विकास  का स्वरुप अब  जन आन्दोनलात्मक  हो चला है।  चाहे स्वच्छ भारत हो या सुकन्या समृद्धि या फिर मेक इन इंडिया।  भारत अब एक टीम की तरह आगे बढ़ रहा है। 

 

3 वर्षों में भारत का विश्वास:-

पिछली यू पी ए  सरकार  में लोक हित  के सभी मानकों ,जो  किसी राष्ट्र के सार्वदेशिक समुन्नति के लिए मूल भूत तत्त्व माने गए हैं (कर्म , कौशल युक्त कर्म , सामूहिक विकास का चरित्र और सब से बढ़ कर राष्ट्र के प्रति निष्ठां) , आम तौर पर इन सभी मूल्यों , मानकों को धत्ता बता दिया।  देश प्रायः सभी मौलिक चुनौतियों से जूझने के सामर्थ्य से निराश हो चुका  था , ऐसे में भाजपा नीत प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने देश में जन  विश्वसनीयता बहाल कर अभूतपूर्व कार्य किया। उन्होंने राष्ट्र की तात्कालिक अवस्था को स्वीकार किया , समस्त चुनातियों को रेखांकित किया और जन  सहभागिता के द्वारा विकास का एक नया अध्याय प्रारम्भ किया। 

 

विश्व गुरु भारत :-

 विश्व में भारत की अपनी संस्कृति , नीति और सामाजिक सोच को प्रभावी ढंग से  रखते हुए भारत की गरिमा में वृद्धि।  त्याग और ज्ञान की परिपाटी को आगे बढ़ाते हुए भारत ने समग्र विश्व को योग से जोड़ा।  विश्व पटल पर सहभागी विकास के अपने  आयाम बनाते हुए अनेकानेक आर्थिक , सामाजिक एवं सामरिक समझौते किये ।  विदेश मंत्रालय ने प्रवासी भारतीयों की सुरक्षा एवं संरक्षा के लिए अहर्निश प्रयास कर नए प्रतिमान बनाये।  S A A R C  उपग्रह की सेवाएं सभी देशों को दिला भारत ने अपने वैश्विक मूल्यों को प्रतिस्थापित किया। नेशनल ब्रांड वैल्यू में 32% का इजाफा हुआ है |

 

शांत और समग्र भारत :-

 देश में समग्र विकास के लिए जन विश्वसनीयता के साथ शांत परिवेश का निर्माण। भारत की सीमा की अक्षुण्णता हेतु संवेदनशील नेतृत्व ने अरुणाचल से कश्मीर तक नए एवं ठोस कदम उठाये।  एक भारत , श्रेष्ठ भारत को कृत संकल्प मोदी सरकार ने भारत की जनता को विकास के लिए आवश्यक शांत एवं समग्र माहौल दिया।  सुरक्षा एजेंसियों को सुदृढ़ एवं अद्यतन तकनीक से लैश किया गया।  धार्मिक एवं सामाजिक सद्भाव को बनाने एवं सुदृढ़ करने के वृहद् प्रकल्पों ने समाज में विश्वास और शांति बढ़ायी| पहली बार किसी सरकार ने विकास के मानक पर देश के सभी भागों ( पूर्वोत्तर , हिमालयीय पट्टी , जम्मू कश्मीर , सीमावर्ती क्षेत्र ) को साथ लिया।  मोदी जी की “लुक ईस्ट ” पालिसी  ने “एक भारत , श्रेष्ठ भारत” को यथार्थ में परिणत किया है। 

 

कुशल भारत , सशक्त भारत :-

 मानव संसाधन विकास इस सरकार की प्राथमिकता रही।  भारत के मानव संसाधन को कुशल बनाने के लिए मोदी सरकार ने भगीरथ प्रयत्न प्रारम्भ किये हैं।  युवाओं को गुणी बनाकर कर वैश्विक परिवेश में अपनी जगह बनाने के लिए भारत सरकार ने “कौशल प्रशिक्षण में क्रांति ” का सूत्रपात किया है। नेशनल स्किल डेवलपमेंट स्कीम के तहत 76 लाख युवाओं का टरेनिंग दी जा चुकी है. पीएम कौशल विकाश योजना के तहत अगले तीन साल में 1 करोड युवाओं को ट्रेनिंग देने का लक्ष्य है. अब तक 249 टरेनिंग पार्टनर्स  के 3,222 टरेनिंग सेंटर्स  में 55,70,476 लोगों को प्रशिक्षित किया गया है जिसमें  से 28,88,009 लोगों को जॉब भी मिल चुकी है |

 

 

सतर्क भारत – समृद्ध भारत :-

 विमुद्रीकरण भारत के सामाजिक – आर्थिक इतिहास में मील का पत्थर सिद्ध हुआ, जन सहयोग ने आर्थिक शुचिता के इस यज्ञ को अभूतपूर्व सफलता दी।  सरकार की जन धन योजना ने वित्तीय सन्निहितीकरण का नया अध्याय लिखा।  D B T  ने आर्थिक शुचिता और सामाजिक जीवन से भृष्टाचार उन्मूलन में महती सहयोग दिया। पहल योजना के तहत, एलपीजी सब्सिडी सीधे बैंक खातों में जमा की गई। ” मुद्रा ऋण ” ने युवाओं एवं छोटे उद्यमियों के स्वप्नों को नए पंख दिए. सामूहिक आर्थिक विकास की इस चेतना ने “सबका साथ , सबका विकास ” को सफल बनाया| मुद्रा बैंक योजना के अंतगथत 76411764 लोगों को 328452.09 करोड रुपये का ऋण seS a n c tio n किया जा चुका है| जन-सुरक्षा कवच, नेशनल हेल्थ पॉवलसी में बदलाव, ओरआरओपी, जरूरी दवाओं के मूल्य में कमी, सस्ती दवाओंकी दुकान, एक लाख रुपये का फ्री स्वास्थ्य बीमा आदि से लोगों का काफी विश्वास बढ़ा है |

 

एक भारत, एक कर:-

 समस्त कर ढांचा, विपणन एवं सेवा के क्षेत्र में यह ऐतिहासिक साहसिक कदम भारतीय अर्थव्यवस्था को ऊंचाई पर ले जाएगा और उपभोक्ता विश्वसनीयता से पारदर्शिता आएगी| एक देश, एक टैक्स का इंतजार खत्म हुआ। ‘जीएसटी’ को लागू करने का मार्ग प्रशस्त करते हुए 16 साल बाद 6 अप्रैल, 2017 को वस्तु एवं सेवा कर से जुडे चार विधेयकों को मंजूरी दे दी. इससे करों की एक भ्रामक सूची और उसके प्रभावों को खत्म करते हुए एक एकीकृत और साझा घरेलू बाजार तैयार होगा। भारत ग्लोबल कॉम्पेनटनटविेस इंडेक्स में 16 स्थान और ऊपर पहुंचा। 2015-16 में भारत जहां इस सूची में 55वें स्थान पर था, वहीं 2016-17 की सूची में वह 39वें स्थान पर पहुँच गया। इससे पहले 2015-16 में भी भारत इस इंडेक्स में 16 स्थान और ऊपर पहुंचा था, 2014-15 में भारत 71 वें स्थान पर था |

 

भारत निर्माण – दूरगामी परिणाम :-

 भारत में श्री नरेंद्र मोदी नीत संप्रग सरकार ने दूरगामी सोच के साथ निर्माण के त्वरण को आरोही बनाया, भारत में ढांचागत विकास अबाध गति से बढ़ रहा है।  सडकों का प्रति दिन प्रति  कि मी  निर्माण ऐतिहासिक ऊंचाइयों पर है।  बंदरगाह , पोत निर्माण , अंतर देशीय जल मार्गों पर युद्ध स्तर पर काम हो  रहा है।  रेल का ढांचागत विकास अब नयी नयी भौगोलिक पहुँच बना रहा है।  आज़ादी के ७० सालों के बाद भी रेल के इंतज़ार में बैठे पूर्वोत्तर जम्मू कश्मीर जैसे राज्यों के स्वप्न पूरे हो रहे हैं। 

 

उद्दीप्त भारत – विकसित भारत :-

 ऊर्जा के क्षेत्र में ऊर्जावान नेतृत्व ,चुनौतियों के दुरूहपन के सारे मिथक तोड़ते हुए समस्त भारत को उद्दीप्त करने के लक्ष्य प्राप्ति के कगार पर हैं| ऊर्जा उत्पादन में भारत अभी अपने ऊर्जा उपभोग से आगे निकल चुका है।  सौर ऊर्जा के क्षेत्र  में भारत वैश्विक नेतृत्व को बेताब है।  2019 तक हर घर बिजली की योजना पर द्रुत गति से काम हो रहा है | 18000 बचे गांवों में से अब तक कु ल 13,000 से अधिक गांवों का विद्युतीकरण किया जा चुका है। 1 मई 2018 तक देश के सभी गांवों तक बिजली पहुंचा दी जाएगी | उजाला योजना के माध्यम से  अब तक 21,15,95,0207 एलईडी बल्ब वितरित किये जा चुके हैं जिससे 27,479 mn kwh ऊर्जा की बचत हुई है, इस तरह से उपभोक्ताओं को कु ल 10,992 करोड रुपये के बिजली की बचत हुई है | उद्योग के क्षेत्र में भी भारत ने सराहनीय प्रगती किओ है- निर्यात  में शुरुआती गिरावट के बात लगातार वृद्धि का दौर जारी है और मार्च महीने में यह सालाना आधार पर 27.6 प्रतिशत बढ़ा, जबनक फरवरी में इसमें 17.5 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी।

 

 

समृद्ध कृषक – समृद्ध भारत :-

 भारत सरकार ने 5  वर्षों में कृषकों के लिए कृषि संवर्धन , प्रोत्साहन के माध्यम से दुगुनी आय का प्रकल्प प्रारम्भ किया है । कृषकों को आसान ऋण , फसल बीमा , तकनीकी सहयोग व्यवस्था (ई-मंडी), प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना, सॉइल हेल्थ कार्ड, गोकुल मिशन आदि के द्वारा सरकार ने कृषि में रिकॉर्ड प्रगति  हासिल की है।  जैविक खेती को नयी दिशा दी जा रही है। 

 

उन्नत नारी – उन्नत भारत :-

 बेटी बचाओ से ले कर सुकन्या समृद्धि की क्रांतिकारी योजनाओ ने भौतिक परिणामों के अतिरिक्त समाज में सुधार की प्रक्रिया को प्रभावित किया है तथा जन विमर्श को नारी केंद्रित किया है।  उज्ज्वला योजना , स्वच्छ भारत , महिला कौशल विकास , महिला सरलीकृत ऋण आधी आबादी की नयी भूमिका की नयी बानगी लिख रही हैं। उज्ज्वला योजना  के माध्यम से 2019 तक पांच करोड से ज्यादा गरीब पररवारों तक फ्री गैस कनेक्शन पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है |

 

भ्रष्टाचार मुक्त भारत:-

सब से बढ़ कर इस सरकार की विश्वसनीयता , पारदर्शीता एवं अंतिम छोड़ पर खड़े व्यक्ति के लिए संवेदनशीलता लोगों को प्रभावित कर रही है।  भ्रष्टाचार मुक्त भारत बनाने के संकल्प पर हम अबतक खड़ा उतरे हैं ।  सुशासन को संकल्पित, अन्त्योदय की सोच को जमीन पर उतरने को उतारू, प्रतिबद्धता एवं परिणाम से युक्त यह सरकार भारत के जन  जन  की आशा पर खड़ा उतरने को कटिबद्ध है।  लोगों की आशा को हमने सरकार क्र कर्तव्य से जोड़ा है | 21 वीं  सदी और आने वाली सदियाँ हमारे राष्ट्रीय संकल्पों एवं कार्यों का बहुआयामी परिणाम देखेगी।

 

समृद्ध झारखण्ड – समृद्ध भारत:-

राज्य और केंद्र की सरकारों की सोच एवं कार्यों के बीच सामंजस्य का परिणाम चतुर्दिक परिलक्षित हो रहा है | मोमेंटम झारखण्ड के आयोजन में केंद्र सरकार का सक्रीय सहयोग राज्य की अलग छवि बनाने में सहायक सिद्ध हुई | साहेबगंज में गंगा नदी पर पुल का शिलान्यास तथा इसके अतिरिक्त राष्ट्रीय राजमार्ग विभाग द्वारा लगभग ५५०० करोड़ की अन्य योजना पर कार्य का प्रारंभ, साहेबगंज- गोबिंदपुर सड़क के निर्माण कार्य की पूर्णता एवं आने वाले २ वर्ष में लगभग ४०००० करोड़ की योजनाओं को स्वीकृत करने की प्रक्रिया का प्रारंभ केंद्र सरकार की झारखण्ड के विकास के प्रति प्रतिबद्धता को दर्शाता है | एक ओर जहां नमामि गंगे योजना के तहत लगभग १५०० करोड़ की योजना की स्वीकृति दी गयी है तो दूसरी ओर स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत राज्य में लगभग १४ लाख नए शौचालय का निर्माण कार्य पूर्ण किया गया है | उज्जवला योजना के अंतर्गत लगभग ४ लाख परिवारों को कनेक्शन देना राज्य की महिलाओं के लिए केंद्र सरकार का बड़ा तोहफा रहा | उजाला योजना के अंतर्गत ९० लाख L E D  बल्ब का वितरण, ऊर्जा के क्षेत्र में राज्य को और आत्मनिर्भर बनाने में सहयोगी सिद्ध हुआ | मनरेगा अंतर्गत औसत मानव दिवस ३४ से बढाकर लगभग ५० करने की प्रक्रिया को दिया गया आर्थिक मदद, हजारीबाग के पास ICAR का पूर्वी भारत का सबसे बड़ा रिसर्च सेण्टर का शिलान्यास, धनबाद एवं जमशेदपुर में RURBAN क्लस्टर में १०० करोड़ की महत्वाकांक्षी योजना की शुरुआत तथा 3 अन्य क्लस्टर में प्लानिंग की प्रक्रिया का प्रारंभ एवं PMAY- G के अंतर्गत २.३४ लाख आवास के लक्ष्य का आवंटन केंद्र सरकार की राज्य की ग्रामीण जनमानस के प्रति संजीदगी को दर्शाता है | रांची का SMART सिटी प्रोजेक्ट के लिए चयन, PMAY-U के अंतर्गत २.२ लाख आवास के लक्ष्य का आवंटन, देवघर में AIMS निर्माण को स्वीकृति, AMRUT योजना के अंतर्गत आदित्यपुर, गिरिडीह, चास, देवघर, धनबाद, हजारीबाग शहर का चयन, उड़ान योजना के अंतर्गत जमशेदपुर का चयन राज्य के शहरी क्षेत्रों के विकास में सहायक सिद्ध होगा | PMJDY के अंतर्गत लगभग ७४ लाख नए बैंक खाते की ओपनिंग एवं लगभग 1 लाख लोगों के बीच २४० करोड़ के मुद्रा लोन का बंटवारा राज्य के युवकों को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने एवं उन्हें स्वरोजगारी बनाने में मददगार होगी |

एक सुखद संयोग कि केंद्र में श्री नरेन्द्र मोदी जी और राज्य में श्री रघुवर दास जी की पूर्ण बहुमत वाली सरकार बन गई| अन्त्योदय – साझा लक्ष्य| पहला प्रयास केंद्र द्वारा “केम्पा फण्ड” राज्यों में वितरण करना, दूसरा खनन क्षेत्रों में रोयल्टी और बिक्री का हिस्सा, और तीसरा जन प्रायोजित योजनाओं में खर्च की पूरी छूट – अब झारखण्ड धनाभाव की परेशानी से उन्मुक्त है|

          केंद्र और राज्य सरकार के जन उपयोगी तथा लोक हितकारी निर्णय के कारण लोगों में सरकार के प्रति विश्वास बढ़ा है | विकास को उन्मुक इन सरकारों के प्रयास से झारखण्ड भविष्य में देश की विकास की गाड़ी को तेजी से आगे बढ़ाने के लिए प्रणोदन की भूमिका सशक्तता से निभाने में सक्षम होगा |

धन्यवाद