माटी कला से जुड़े लोगों को इलेक्ट्रिक चाक और भट्टा उपलब्ध कराएगी सरकार

 

माननीय मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने मंगलवार को कहा कि राज्य के किसानों को इलेक्ट्रिक चाक और इलेक्ट्रिक भट्टा उपलब्ध कराया जाएगा। प्रजापति समाज के लोगों को प्रशिक्षित कर आज की जरूरत के अनुसार उत्पाद तैयार कराये जाएंगे। आर्थिक मदद में मुद्रा लोन के माध्यम से लोन उपलब्ध कराने में सरकार मदद करेगी। मुख्यमंत्री ने ये बातें झारखण्ड माटी कला बोर्ड की समीक्षा बैठक में कही।

 

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले चरण में छह जिलों रांची, बोकारो, पूर्वी सिंहभूम, गोड्डा, पलामू व जामताड़ा को मॉडल के रूप में विकसित किया जाएगा। यहां बोर्ड के सदस्य जाकर प्रजापति समाज की सूची बनाएंगे। जो इलेक्ट्रिक चाक लेना चाहते हैं उन्हें सब्सिडी में चाक उपलब्ध कराया जाएगा। साथ ही इन जिलों में इलेक्ट्रिक भट्टा लगाया जाएगा, जहां वे अपने उत्पाद पका सकेंगे।

“दूसरे राज्यों के अच्छे ट्रेनर बुलाकर इन छह जिलों के 5-5 लोगों को मास्टर ट्रेनर बनाया जाएगा। ये मास्टर ट्रेनर अन्य लोगों को प्रशिक्षित करेंगे।”

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार बाजार भी मुहैया कराएगी। इसके लिए अरबन हाट, प्रखंड हाट और पर्यटक स्थलों में बनाए जा रहे हाट में इनके उत्पादों के लिए अलग से स्थान निर्धारित किया जाएगा। इसके साथ ही झारक्राफ्ट और खादी बोर्ड के माध्यम से भी इनके उत्पाद बेचे जाएंगे।

 

“मिट्टी के उत्पाद तैयार करने में जो राज्य इसमें अच्छा कर रहे हैं, उनका मॉडल एडॉप्ट करें। मुद्रा लोन के साथ ही पिछड़ा वित्त निगम के माध्यम से भी आर्थिक सहायता की जाएगी। 50 हजार से एक लाख रुपये तक का लोन लेने के लिए उन्हें बैंक-बैंक दौड़ना नहीं पड़ेगा।”

बैठक में बोर्ड के अध्यक्ष श्री चंद प्रजापति, मुख्य सचिव श्री सुधीर त्रिपाठी, विकास आयुक्त श्री डीके तिवारी, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री सुनील कुमार वर्णवाल, कृषि सचिव श्रीमती पूजा सिंघल झारक्राफ्ट के एमडी श्री मंजूनाथ भजयंत्री समेत अन्य लोग उपस्थित थे।