सरकार की नीयत और नीति साफ है, हम जनभागीदारी से विकास के हिमायती हैं: मुख्यमंत्री

 

मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने बुधवार को कहा कि सरकार की नीयत और नीति साफ है। सरकार जनभागीदारी से विकास की हिमायती है। यही वजह है कि विकास मेला का आयोजन कर सरकार की योजनाओं का लाभ जरूरतमंदों तक पहुंचाया जा रहा है। इसका दूसरा पहलू यह भी है कि जरूरतमंद लोग सरकार की योजनाओं से अवगत होकर उसका लाभ लें, क्योंकि सरकार का उद्देश्य ही है गरीबी उन्मूलन। सरकार आपकी है, आपके जीवन में बदलाव लाने हेतु सरकार धन की कमी नहीं होने देगी। विकास में आप अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें। मुख्यमंत्री ने ये बातें जामताड़ा स्थित दुलाडीह मैदान में आयोजित विकास मेला सह प्रदर्शनी शिविर में कही।

आंधी और बारि‍श के बीच कार्यक्रम को संबोधि‍त करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि ये आंधी विकास की आंधी है, जो पूरे राज्य में बह रही है। सरकार हर गांव, शहर और पूरे राज्य के सर्वांगीण विकास के लिए कृतसंकलिप्त है। पिछले कुछ वर्षों में सरकार ने हर क्षेत्र में विकास की एक नई परिभाषा को लिखा है। राज्य के लोग बहुत भोले हैं। यहां के लोगों को सिर्फ विकास से मतलब है जिसपर सरकार निरंतर कार्य कर रही है। पहली बार सरकार ने लोगों के दर्द को समझा है। सरकार सभी वर्गों के लोगों को ध्यान में रखकर योजना बना रही है ताकि सभी लोगों को सरकार की योजना का लाभ मिले। सभी का सर्वांगीण विकास हो सके। उन्होंने कहा कि साढ़े तीन साल में सरकार ने राम राज्य स्थापित करने का दावा नहीं किया है, लेकिन हर क्षेत्र में एक से बढ़कर एक कार्य किए हैं।

“पहले बिचौलियों की वजह से गरीब को लाभ नहीं मिला पाता था। सरकार ने बिचौलियों को खत्म करने का कार्य किया है। सरकार सीधे लाभुक के खाते में योजना की राशि भेज रही है। इससे बिचौलियों की रात की नींद उड़ गई है।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य की आधी आबादी का जब तक भला नहीं होगा तब तक राज्य का भला नहीं हो सकता। महिलाओं के सर्वांगीण विकास के लिए सरकार निरंतर कार्य कर रही है। कई योजनाओं के माध्यम से उन्हें सशक्त किया जा रहा है। सरकार स्वरोजगार से जोड़कर महिलाओं को सशक्त एवं स्वावलंबी बनाने का कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि हर जिला में पॉल्ट्री फेडरेशन सोसाइटी बनेगी। आने वाले समय में विकास की इस गति को और तेज़ करना है। माननीय प्रधानमंत्री जी के सपनों को हम सभी को मिलकर पूरा करना है। उन्होंने कहा कि महिलाओं को सम्मान देने का कार्य हमारी सरकार ने किया है आज उसकी चर्चा हर जगह हो रही है। प्रधानमंत्री आवास योजना, शौचालय योजना या फिर उज्ज्वला योजना सभी योजनाएं महिलाओं को ध्यान में रखकर बनाई गई है।

“महिलाओं को अब लकड़ी चुनकर या धुआं के बीच खाना बनाने की जरूरत नहीं है। 15 हजार महिलाओं को रेडी टू ईट योजना से जोड़ा जाएगा। महिलाओं को 90% अनुदान पर 2 गाय उपलब्ध कराया जा रहा है, युवाओं को भी इस योजना के तहत 50% अनुदान पर गाय दी जा रही है। बकरी पालन और अंडा उत्पादन के लिए सरकार महिलाओं को 4 लाख रुपये प्रदान कर रही है। साथ ही उनके लिए बाजार भी उपलब्ध कराया जा रहा है।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य की महिलाओं को चूल्हे की धुआं से मुक्त करने के लिए वर्ष 2018 के अंत तक 34 लाख LPG सिलेंडर और साथ में चूल्हा का वितरण करने का लक्ष्य तय किया गया है। मुझे इस बात की खुशी है कि आज जामताड़ा की 30 हजार महिलाओं को इस योजना से आच्छादित किया गया। सरकार उज्ज्वला योजना के तहत एलपीजी गैस कनेक्शन दे रही है। झारखण्ड सरकार पहली ऐसी सरकार है जो एलपीजी गैस कनेक्शन के साथ चूल्हा मुफ्त लाभुकों को दे रही है।

“संथाल परगना के लोग सीधे और सरल हैं। संथाल के युवाओं से मैं यह अपील करता हूं कि संथाल परगना को बदलने में आप सहयोग करें। आप समय के साथ खुद को अपनी सोच में सकारात्मक बदलाव लाएं, नहीं तो हम पीछे रह जाएंगे। अगर समय के साथ परिवर्तनशील हुए तो आने वाले समय में संथाल परगना विकास के मानचित्र में स्वतः स्थापित हो जाएगा। सरकार आदिवासियों के हित में कार्य कर रही है।”

श्री रघुवर दास ने कहा कि आपने मुझ गरीब को अपना मुखिया भले चुना हो, लेकिन मैं आपके दर्द को महसूस करता हूं और समझता हूं। सरकार गरीबी उन्मूलन योजना बना रही है ताकि गरीब का भला हो सके। गरीब के विकास के लिए सरकार कुछ भी करेगी।

“सरकार दिसम्बर 2018 तक हर घर तक बिजली पहुंचायेगी। राज्य के 1500 किलोमीटर सड़क का निर्माण गांव को जोड़ने के लिए होगा। सरकार हर गांव को संपर्क रास्ते से जोड़ने का कार्य कर रही है। आने वाले समय में एक विकसित झारखण्ड और गरीबी से मुक्त झारखण्ड बनाने का जो हमारा संकल्प है हम उसे पूरा करेंगे।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य और देश में जो विकास की राजनीति चल पड़ी है उसे और गति देना है। साढ़े तीन साल के कार्यकाल में कृषि, आईटी, पर्यटन, इंफ्रास्ट्रक्चर समेत सभी क्षेत्रों में कार्य हुआ है। संथाल परगना का विकास राज्य सरकार की प्राथमिकताओं में से एक है। यही वजह है कि देवघर में एम्स और एयरपोर्ट निर्माण के लिए शिलान्यास किया गया। जनवरी 2019 तक यहां आपातकालीन सेवा और ओपीडी शुरू करने का पूर्ण प्रयास होगा। पर्यटन को भी बढ़वा देकर अधिक से अधिक लोगों को रोजगार व स्वरोजगार से जोड़ने की योजना है। 2018 तक बिजली व्यवस्था दुरुस्त हो, इसके लिए वितरण और संचरण लाइन को दुरुस्त किया जा रहा है। सरकार को इस बात का आभास है कि फिलहाल बिजली से आप सभी को परेशानी हो रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जामताड़ा को बेहतर और समृद्ध जिला बनाना है। हाल की दिनों में जामताड़ा की चर्चा गलत कार्य करने में किया गया। यह ठीक नहीं है। क्या आपको अपने जामताड़ा की बदनामी अच्छी लगती है? जरा सा अनैतिक कार्य कर जामताड़ा को बदनाम करने वाले एक बात समझ लें, अनैतिक ढंग से अर्जित किया धन आपको चैन से सोने नहीं देगा। गलत करने वाले लोगों को सरकार किसी कीमत पर नही छोड़ेगी। उनकी संपत्तियों को जब्त किया जाएगा।

“युवा गलत कार्य न करें। अपनी काबिलियत को सही पहचान दें। सरकार आपको बेहतर प्लेटफॉर्म उपलब्ध कराएगी। रोजगार उप्लब्ध कराएगी। इसलिए भटके हुए लोग आप लौट आएं सरकार आपको रोजगार देगी।”

कार्यक्रम में माननीय मंत्री कृषि, पशुपालन एवं सहकारिता विभाग श्री रणधीर कुमार सिंह, मंत्री समाज कल्याण श्रीमती लुइस मरांडी, पूर्व मंत्री श्री सत्यानंद झा बाटुल सहित अन्य लोग उपस्थित थे।