राज्य में चल रहीं पथ परियोजनाओं को लेकर सीएम ने की समीक्षा बैठक

माननीय मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने गुरुवार को झारखण्ड मंत्रालय में भारत सरकार के राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (तकनीकी) के सदस्य श्री एके सिंह के साथ समीक्षा बैठक की। राज्य में चल रहीं विभि‍न्न पथ परियोजनाओं को लेकर विस्तृत चर्चा की गई। इस दौरान मुख्यमंत्री ने संबंधि‍त अधि‍कारियों को निर्देश देते हुए कहा कि सड़क निर्माण से जुड़े कामों में तेजी लाने के लिए सभी विभाग एक-दूसरे से सामंजस्य स्थापित कर काम करें। झारखण्ड में नेशनल हाइवे के द्वारा चल रहे प्रोजेक्ट से जुड़े मामले संबंधित विभागों को भेज दें। 28 जून को फिर से बैठक की जाएगी। इसमें वन, बिजली, राजस्व, माइंस आदि संबंधित विभाग के अधिकारी, संबंधित जिले के उपायुक्त, डीएफओ समेत नेशनल हाइवे अथॉरिटी के अधिकारी भी रहेंगे। एक-एक प्रोजेक्ट पर तत्काल निर्णय लिया जाएगा।

“विभाग के अधिकारी पूरी तैयारी के साथ पहुंचें। सरकार समस्या नहीं समाधान चाहती है, ताकि आम लोगों के हित में काम हो सके। झारखण्ड में इन सड़कों के बनने से राज्य की स्थिति बदल जाएगी।” 

बैठक में बताया गया कि गंगा ब्रिज के निर्माण का काम बरसात के बाद शुरू हो जाएगा। इसी प्रकार रातू रोड में बनने वाले तीन लेन एलिवेटेड रोड के लिए जुलाई मध्य में शिलान्यास किया जा सकेगा। राज्य में  छह नयी सड़कों (546 किमी) के निर्माण का काम भी जल्द शुरू किया जा सकेगा। इनसे जुड़ी प्रक्रियाएं अंतिम चरण में है।

“कुछ लोग विकास कार्य को अवरूद्ध करना चाहते हैं। ऐसे लोगों के खिलाफ सरकार सख्ती से पेश आएगी। चाहे वे बाहरी तत्व हो या विभागों के अधिकारी। सरकार की नीति और नीयत साफ है। हमारा एक मात्र लक्ष्य है झारखण्ड के गांव-गांव को अच्छी गुणवत्तावाली सड़कों से जोड़ना। इस काम में सरकार कोई गड़बड़ी बर्दाश्त नहीं करेगी। अच्छी सड़कें बनने के साथ ही गांव में खुशहाली आ जाएगी। गांव के लोग अपने काम को फैला सकेंगे।” 

बैठक में मुख्य सचिव श्री सुधीर त्रिपाठी, नेशनल हाइवे अथॉरिटी के सदस्य तकनीकी श्री एके सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री सुनील कुमार वर्णवाल, पथ सचिव श्री केके सोन, पीसीसीएफ श्री संजय कुमार समेत अन्य अधिकारी उपस्थित थे।