प्रधानमंत्री की धनबाद यात्रा झारखण्ड की विकास यात्रा में मील का पत्थर साबित होगा

 

माननीय मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने बुधवार को कहा कि आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की सिंदरी (धनबाद) यात्रा झारखण्ड की विकास यात्रा में मील का पत्थर साबित होगा। मुख्यमंत्री ने ये बातें धनबाद में मीडि‍या से बातचीत के दौरान कही। बता दें, माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी 25 मई 2018 को सिंदरी (धनबाद) में झारखण्ड की कई महत्वपूर्ण परियोजनाओं का शिलान्यास करेंगे।

 

पतरातू में 8X800 मेगावाट सुपर थर्मल पावर प्लांट का होगा शिलान्यास 

मुख्यमंत्री ने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री पतरातू में 8X800 मेगावाट सुपर थर्मल पावर प्लांट का शिलान्यास करेंगे। प्रथम चरण में 3X800 मेगावाट प्लांट की स्थापना, जबकि द्वितीय चरण में 2X800 मेगावाट प्लांट की स्थापना होगी। JBVNL तथा NTPC  पतरातू के द्वारा गठित संयुक्त उपक्रम, पतरातू उत्पादन निगम लिमिटेड के द्वारा 8X800 मेगावाट सुपर थर्मल पावर प्लांट की स्थापना की जा रही है। प्रथम फेज की कुल लागत 18668 करोड़ रुपए है। साल 2021-22 तक प्रथम फेज को पूरा करने का लक्ष्य है। प्रथम चरण के लिए बनहरदी ब्लॉक आवंटित है। प्रथम चरण के 1234 एकड़ भूमि उपलब्ध करा दी गई है, जबकि द्वितीय चरण के लिए 625 एकड़ भूमि उपलब्ध कराई जाएगी। 

 

प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के तहत देवघर में एम्स की स्थापना


देवघर में 1,103 करोड़ रुपए की लागत से एम्स का निर्माण होगा। इसके लिए 237 एकड़ भूमि देवघर के देवीपुर अंचल में उपलब्ध कराई गई है। यह 3 वर्ष 9 माह (45 माह) में बनकर तैयार होगा। 750 बेड के बनने वाले इस हॉस्पिटल में 20 सुपर स्पेशि‍यलिटी विभाग, 15 ऑपरेशन थियेटर के साथ 30 बेड का आयुष अस्पताल भी साथ में क्रियाशील रहेगा। इसमें मेडिकल कॉलेज और नर्सिंग कॉलेज भी होगा। मेडिकल कॉलेज में प्रति बैच 100 एमबीबीएस के छात्र होंगे, जबकि नर्सिंलग कॉलेज में प्रति बैच 60 बीएससी नर्सिंग के छात्र होंगे। इससे झारखण्ड, बिहार एवं प. बंगाल के निकटवर्ती इलाके के लोगों को लाभ मिलेगा। इसमें चिकत्सकों एवं हेल्थ वर्कर का एक वृहद समूह उपलब्ध रहेगा। 

 

हिन्दुस्तान उर्वरक रसायन लिमिटेड (HURL) सिंदरी इकाई का पुनर्रुद्धार का शिलान्यास

यूरिया के उत्पादन से देश की आवश्यकता के अनुरूप आत्मनिर्भता होगी। यूरिया उरर्वक की मूल्य में स्थिरता आएगी। इस संयत्र की स्थापना से रेलवे तथा सड़क परिवहन पर दबाव कम होगा। फ्रांस की टेक्नियप कंपनी के द्वारा आधुनिक तथा सुरक्षा के सर्वोत्तम तकनीक का उपयोग होगा। न्यूनतम विशिष्ट ऊर्जा की खपत एवं न्यूनतम प्रदूषण करने वाला संयत्र होगा। यह 695 एकड़ भूमि पर 7000 करोड़ रुपए की लागत से बनाया जाएगा। ये परियोजना 3 साल में पूर्ण होगी। इसके चालू होने से 400 लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार और 2500 लोगों को अप्रत्यक्ष रूप  से रोजगार मिलेगा। 

 

देवघर में एयरपोर्ट के निर्माण का शिलान्यास

एयरपोर्ट अथॉरि‍टी ऑफ इंडिया के द्वारा डीआरडीओ तथा झारखण्ड सरकार के सहयोग से देवघर एयरपोर्ट का निर्माण होगा। एयरपोर्ट कुल 653.75 एकड़ भूमि पर बनेगा। इसकी कुल लागत 401.32 करोड़ रुपए है। रनवे 2500 मीटरx45 मीटर का होगा। इस एयरपोर्ट से झारखण्ड का उत्तर-पूर्व क्षेत्र, पश्चि म बंगाल का उत्तर-पश्चिरम क्षेत्र और बिहार का दक्षिउण-पूर्व क्षेत्र अधि‍क लाभान्विबत होंगे। देश का महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल द्वादश ज्योतिर्लिंगों में एक तथा 51 शक्तिपीठ में एक बैद्यनाथ धाम तक देश तथा विदेश के सभी हिस्सों से लोग वायुमार्ग से पहुंच सकेंगे।
 

 

रांची शहरी क्षेत्र में पाइपालाइन द्वारा गैस वितरण परियोजना का शिलान्यास

कुल 5097 वर्ग किमी क्षेत्रफल में होगा। इससे 30 लाख की आबादी लाभान्विसत होगी। वहीं,1000 लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार मिलेगा। 2018-19 में 5000 घरेलू कनेक्शन दिए जाएंगे। 2 हजार डोमेस्टिक पीएनजी कनेक्शन पर कार्य प्रारम्भ होगा। सितंबर 2018 तक 2 सीएनजी स्टेशन का निर्माण होगा। झारखण्ड के रांची तथा पूर्वी सिंहभूम प्रक्षेत्र के 180 किमी पाइपलाइन बिछाई जाएगी तथा 445 करोड़ रुपए अगले 5 वर्षों में निवेश होगा। इससे एफसीआई सिंदरी, सेल बोकारो, सीसीएल रांची, जिन्दल स्टील पावर प्लांट को अधि‍क लाभ मिलेगा। रांची तथा जमशेदपुर में पीएनजी (पाइप्ड नेचुरल गैस) के द्वारा घरेलू कनेक्शन, भविष्य में बोकारो, हजारीबाग, धनबाद, रामगढ़ और गिरिडीह में भी पीएनजी गैस की सुविधा घरेलू उपभोक्ताओं को मिलेगी।

 

सीसीएल के विस्थापितों को नियुक्ति पत्र का वितरण

कोयला मंत्रालय के अंतर्गत सीसीएल परियोजनाओं के लिए झारखण्ड के 8 जिलों में अधिग्रहित भूमि के एवज में प्रति 2 एकड़ की भूमि पर प्रभावित परिवार के एक व्यक्ति को कटेगरी-1 के पद पर कुल वेतन 26293/-रू0 पर नियुक्ति की जा रही है। 6 माह के उपरांत 32864/-रू0 का भुगतान किया जाएगा। सीसीएल के 100 युवाओं को नियुक्ति पत्र दिया जा रहा है। दिसंबर 2018 तक 1500 तथा 2020 में 2000 युवाओं को नियुक्त करने का लक्ष्य निर्धारित है।

 

जन औषधि केंद्र खोले जाने हेतु एमओयू पर हस्ताक्षर

प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि परियोजना के अंतर्गत झारखण्ड राज्य के विभिन्न जिलों में 250  नए जन औषधि केंद्र खोले जाने हेतु झारखण्ड सरकार के स्वास्थ्य चिकित्सा एवं परिवार कल्याण विभाग तथा भारत सरकार के फार्मास्यूटिकल विभाग रसायन एवं उर्वक मंत्रालय के अंतर्गत गठित बीपीपीआई के बीच एमओयू पर हस्ताक्षर होगा। इन केंद्रों का संचालन तथा अनुश्रवण भी होगा। 2.50 लाख रुपए  केंद्रीय वित्तीय सहायता प्रति केंद्र दी जाएगी।