Press Release BJP Jharkhand 08-05-18

राँची। प्रदेश भाजपा प्रवक्ता प्रवीण प्रभाकर ने कहा है कि गोमिया-सिल्ली उपचुनाव में झामुमो महागठबंधन के भरोसे है, लेकिन उसके ही विधायक महागठबंधन तथा कांग्रेस के विरोध में निशाना साध रहे हैं। ऐसे में दोनों सीटों पर झामुमो की नैया डूबनी तय है।
श्री प्रभाकर ने कहा कि गोमिया और सिल्ली में झामुमो को अंतरविरोधों से जूझना पड़ रहा है। एक तरफ हेमंत सोरेन भ्रष्टाचार की बार करते हैं, वहीं दूसरी तरफ झामुमो जनता के उन सवालों का जवाब नहीं दे पा रहा है कि उसके विधायकों को सजा क्यों मिली और वे अयोग्य कैसे घोषित हो गए?
श्री प्रभाकर ने कहा कि मैथन में झामुमो महाधिवेशन में विधायकों समेत कई नेताओं ने खुलकर महागठबंधन का विरोध किया और कांग्रेस पर गंभीर आरोप लगाए। इससे महागठबंधन की सफलता संदिग्ध हो गई है।
श्री प्रभाकर ने कहा कि गोमिया और सिल्ली में झामुमो के पास कोई प्रत्याशी नहीं था, इसलिए दागी विधायकों की पत्नियों को चुनाव मैदान में उतार दिया गया है। श्री प्रभाकर ने कहा कि झामुमो महिलाओं के सम्मान की बात करता है। लेकिन उस समय क्या हो गया था जब स्व सुधीर महतो की विधवा सविता देवी को रांची बुलाकर भी राज्यसभा टिकट से वंचित कर दिया गया और राजद प्रत्याशी प्रेमचंद गुप्ता से सौदेबाजी कर की गई। तब सविता देवी खून के आंसू लेकर वापस जमशेदपुर गईं थीं।
श्री प्रभाकर ने कहा कि झामुमो स्थानीय नीति पर जनता को बरगला रहा है। हेमंत सोरेन ने अपने कार्यकाल में स्थानीय नीति परिभाषित नहीं की। झामुमो नहीं चाहता कि राज्य के युवाओं को रोजगार मिले। भाजपा ने संवैधानिक प्रावधानों तथा अन्य राज्यों की नीतियों के आधार पर स्थानीय नीति तय की है, जिससे लाखों युवाओं को जिला आधार पर रोजगार पाने का मार्ग प्रशस्त हुआ है।