प्रदेश भाजपा प्रवक्ता प्रवीण प्रभाकर ने कहा है कि एक कहावत है-खिसियानी बिल्ली खम्बा नोचे

राज्य में झामुमो-कांग्रेस की यही हालत हो गई है। नगर निकाय चुनाव में भाजपा की शानदार जीत और अपनी शर्मनाक हार का सदमा झामुमो-कांग्रेस बर्दाश्त नहीं कर पा रहे हैं, इसलिए कभी आरोप लगा रहे हैं कि काउंटिंग प्रक्रिया में गड़बड़ी हुई, तो कभी बोल रहे हैं कि ईवीएम हैक कर लिया गया।
श्री प्रभाकर ने कहा कि झामुमो-कांग्रेस को जनता से इतने दूर हो चुके हैं कि जनता का नब्ज पकड़ नहीं पा रहे हैं। इन विपक्षी दलों को नगर निकाय चुनाव परिणामों से सबक सीखने की जरूरत है। अब जनता को बरगला कर वोट नहीं लिया जा सकता। 70 वर्षों तक विकास से वंचित रही राज्य की जनता रघुवर दास के विकास का स्वाद चख चुकी है। इसलिए नगर निकाय चुनाव में जनता ने विपक्ष के बकवास को नकार दिया और भाजपा के विकास पर मुहर लगा दी।
श्री प्रभाकर ने कहा कि निकाय चुनाव में हार के बाद झामुमो-कांग्रेस फिर से जनता की आंखों में धूल झोंकने के प्रयास में जुट गए हैं, इसलिए वे अपनी शर्मनाक हार का ठीकरा कभी ईवीएम पर फोड़ रहे हैं, तो कभी काउंटिंग की प्रक्रिया पर। मतगणना के दिन इन दलों ने कोई आपत्ति नही जताई, अब चुनाव आयोग को ज्ञापन दे रहे हैं कि काउंटिंग में हेरा फेरी हुई। कांग्रेस तो एक कदम आगे है। मतदान के एक सप्ताह बाद उसे पता चला है कि सीक्रेट कोड से ईवीएम की हैकिंग हुई है। जनता समझ रही है कि खिसियानी बिल्ली की तरह खंभा नोच रहे हैं झामुमो-कांग्रेस।