बीजेपी ही कर सकती है राज्य का विकास : सीएम

 

आगामी स्थानीय निकाय चुनाव में बीजेपी की जीत सुनिश्चित करने के लिए झारखण्ड के मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास दिन रात जुटे हुए हैं। केंद्र और राज्य सरकार की योजनाओं की समीक्षा करने दुमका पहुंचे माननीय मुख्यमंत्री ने यहां कार्यकर्ताओं से मुलाकात की और जीत का मंत्र दिया। कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि आपकी मेहनत और लगन की बदौलत भारतीय जनता पार्टी की सरकार केंद्र में भी है तो राज्य में भी। अब बारी है आपके शहर में आपकी सरकार बनाने की। आप चुनाव प्रचार में ईमानदारी से अपना सब कुछ झोंक दें और जनता को समझाएं कि क्यों निकाय चुनाव में बीजेपी की जीत जरुरी है। माननीय मुख्यमंत्री ने कार्यकर्ताओं से आपसी भेदभाव खत्म कर जनता के बीच सरकारी योजनाओं के प्रति जागरुक करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा की चुनाव में जीत किसी व्यक्ति विशेष की नहीं होती बल्कि पार्टी की होती है और भारतीय जनता पार्टी तो ऐसी पार्टी है जहां कार्यकर्ताओं की मेहनत को कभी अनदेखा नहीं किया जाता। दुनिया की इस सबसे बड़ी पार्टी में हर कार्यकर्ता के लिए कुछ भूमिकाएं जरुर तय की जाती है लेकिन आजन्म वो पार्टी के लिए कार्यकर्ता ही रहता है। मैं खुद आज मैं आपके बीच बतौर कार्यकर्ता ही उपस्थित हूं। मैं आज जो हूं पार्टी की बदौलत, पार्टी के प्रति समर्पण की बदौलत। बीजेपी का जो विराट रूप आप देख रहे हैं इसकी शुरुआत जनसंघ की स्थापना से हुई थी। बीजेपी परिवारवाद और वंशवाद की पार्टी नहीं, कार्यकर्ताओं की पार्टी है। हम सबको गौरव होना चाहिए कि 20 राज्यों में बीजेपी और सहयोगी पार्टियों की सरकार है। मुख्यमंत्री ने कार्यकर्ताओं से संवाद स्थापित करने के दौरान विरोधियों को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि बीजेपी के बढ़ते हुए जनाधार से विपक्षी दल बौखला गए हैं। आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी की जन कल्याण नीतियों से उन्हें डर लग रहा है। कांग्रेस, जेएमएम, जेवीएम और आरजेडी ने झारखण्ड का विकास नहीं किया, सिर्फ लूटने में लगे रहे। इन्होंने गरीब आदिवासियों के पैसों का गबन किया। प्रधानमंत्री जी सबका साथ सबका विकास के मंत्र को अपनाते हैं इसलिए विपक्षी पार्टियों को बौखलाहट होती है। अगर गरीब आदिवासी की किसी ने चिंता की तो वो हैं आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी को।

विपक्ष बौखला रहा है क्योंकि गांव में बिजली जा रही है, अंधियारा हटेगा तो शिक्षा का उजियारा फैलेगा। ऐसे में विपक्ष की वोटबैंक की दुकान कैसे चलेगी।

श्री दास ने झारखंड नामधारी पार्टियों को झारखण्ड के लिए कलंक बताते हुए कहा कि झारखण्ड नामधारी पार्टियां कई हैं। लेकिन सब नाम की हैं। किसी को झारखण्ड के विकास से कुछ लेना देना नहीं। झारखण्ड मुक्ति मोर्चा इसका सबसे बड़ा उदाहरण है। हेमंत सोरेन खुद बोकारो के रहने वाले हैं, लेकिन दुमका में उनके पास कितनी जमीन है ये किसी से छिपा नहीं। अब हेमंत सोरेन सीएनटी एक्ट को लेकर लोगों को गुमराह कर रहे हैं। उल्टा चोर कोतवाल को डांटे वाली स्थिति है ये। झारखण्ड में जेएमएम की सरकार चार बार बनी। मधु कोड़ा को मोहरा बनाकर इन्होंने झारखण्ड को लूटा। दुनिया में झारखण्ड की छवि खराब करने वाली कोई पार्टी है तो वो है झारखण्ड मुक्ति मोर्चा। एक बार फिर से झारखण्ड मुक्ति मोर्चा निकाय चुनाव में स्थानीय नीति को मुद्दा बनाने की कोशिश में है। उनकी इस कोशिश को नाकाम करने की जिम्मेदारी आप कार्यकर्ताओँ की है। आप जनता को सरकार की स्थानीय नीति की खासियत बताएं। जनता को आप समझाएं कि कैसे जेएमएम लोगों को गुमराह कर रही है। पहले भी इन लोगों ने स्थानीय नीति के नाम पर बीजेपी की सरकार गिरा दी थी और फिर खुद मुख्यमंत्री बन गए, लेकिन स्थानीय नीति पर तब भी कुछ नहीं किया।

जेएमएम ने अपने स्वार्थ के लिए झारखण्ड और यहां के आदिवासियों की अस्मिता को लूटा है।

माननीय मुख्यमंत्री ने भारतीय राजनीति में सबसे चर्चित रहे सांसद रिश्वत कांड को लेकर भी जेएमएम को आड़े हाथों लिया। उन्होंने 13वीं लोकसभा के वक्त हुए रिश्वत कांड को झारखण्ड की राजनीति के लिए शर्म बताया। मुख्यमंत्री ने कहा कई बार इन लोगों ने जोड़ तोड़ कर सरकार बनाई है और झारखण्ड को लूटने का काम किया है। झारखण्ड मुक्ति मोर्चा ही रिश्वत कांड को अंजाम देने वाली पार्टी है। ये विपक्षी पार्टियां गठबंधन कर चुनाव तो जीत लेती हैं लेकिन इनके गठबंधन की नींव स्वार्थ पर टिकी होती है। तभी इनका गठबंधन चल नहीं पाता। गुरुजी मुख्यमंत्री बने थे, 6 महीने में चुनाव जीतना था तो जेएमएम और कांग्रेस ने साजिश रच कर गुरु जी को ही चुनाव नहीं जीतने दिया। ये साजिश किसी और ने नहीं खुद हेमंत ने ही रची थी, अपने पिता के खिलाफ। ये प्रमाण है इनके स्वार्थ का।

मौका मिलेगा तो मैं जेएमएम पर किताब लिखूंगाकैसे एक पुत्र अपने पिता को जेल में बंद रखकर मुगल शासन चला रहा था। जो अपने पिता का नहीं हुआ वो झारखण्ड की जनता का कैसे होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा बीजेपी एक ऐसी पार्टी है जो वंशवाद और परिवारवाद की राजनीति नहीं करती है। यहां कार्यकर्ता की मेहनत और काबिलियत को सम्मान दिया जाता है। तभी तो बीजेपी में एक मजदूर भी राज्य का सेवक बन जाता है। आप सब अपने शहर में बीजेपी की सरकार बनाइए। केंद्र से योजनाएं चलेंगी तो सीधे आप तक विकास पहुंचेगा। जनता के बीच जाइए, उन्हें बताइए कि पिछले साढ़े तीन साल में दुमका की तस्वीर किस तरह बदली है। हम सभी कार्यकर्ता किसी व्यक्ति के लिए काम नहीं करते, हम पार्टी के लिए काम करते हैं। आप पार्टी को निकाय चुनाव में जिताने के लिए तन-मन से लग जाएं। संथाल परगना की सभी दसों सीटों पर हमें जीत दर्ज करनी है। आपके सामने कोई नहीं है, किसी पार्टी के पास कार्यकर्ताओं का इतना बड़ा परिवार नहीं है। मैं आसान कार्य करने के लिए राज्य का सेवक नहीं बना हूं। राज्य के सामने जो जटिल समस्याएं और चुनौतियां हैं, आपके सहयोग से उन्हें दूर कर, मैं राज्य को विकास के पथ पर और आगे ले जाने में जुटा हूँ ।