ग्रामीणों की राय से विकास की योजनाएं तैयार करें अधिकारी: रघुवर दास

 

लातेहार में मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने बेतला क्षेत्र के विकास को लेकर अधिकारियों के साथ बैठक की। इस मीटिंग में मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि अधिकारी गांव में पहुंचकर ग्रामीणों से संवाद स्थापित कर जानकारी प्राप्त करें। ग्रामीणों के राय लेकर गांवों के विकास की योजना तैयार करें। ये पता लगाने की कोशिश करें कि आखिर गांव के विकास के लिए सबसे अधिक क्या जरुरी है ?

मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास कहा कि नक्सल और उग्रवाद को खत्म करने के लिए गांव में रोजगार का सृजन करना होगा। राज्य में गरीबी खत्म करने के लिए लोगों को स्वरोजगार से जोड़ना जरुरी है। सभी को सरकारी नौकरी देना संभव नहीं है, लेकिन स्वरोजगार के जरिए सभी के आय में बढ़ोतरी किया जा सकता है। अधिकारियों को आदेश देते हुए उन्होंने कहा कि स्वरोजगार से जोड़ने के लिए सड़क निर्माण, मुर्गीबकरी पालनचेकडैमतालाबमछली पालन समेत अन्य योजनाओं से जोड़ने की बात कही।

अधिकारियों को निर्देश देते हुए श्री रघुवर दास ने कहा कि ऐसे सभी क्षेत्रों का चयन करें, जहां अब तक पहुंच के लिए रास्ते नहीं हैं। इसके साथ ही सुदूर इलाके जोड़ने के लिए कार्ययोजना बनाकर सड़क और पुल- पुलिया का निर्माण कराएं। सुदूर गांवों तक रास्ता नहीं होने की वजह से विकास बाधित होता है। रास्ता नहीं होने की वजह से अधिकारी गांव में नहीं पहुंच पाते हैं। इस वजह से ग्रामीणों और अधिकारियों के बीच संवादहीनता बनी रहती है और सरकार की योजनाओं से वंचित रह जाते हैं।

इसके साथ ही श्री रघुवर दास ने अधिकारियों से बूढ़ा पहाड़ में जमे नक्सलियों की समाप्ति के लिए चलाए जा रहे अभियान में आने वाली समस्या को लेकर भी चर्चा की। उन्होंने कहा कि बूढ़ा पहाड़ समेत दूसरे इलाकों में सड़क निर्माण कराया जाए। इसके लिए पुलिस प्रशासन से भी सहयोग लेने की बात कही।

श्री रघुवर दास ने कहा कि नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में रोजगार के साधन बढ़ाने के साथ- साथ गांव के पढ़े- लिखे युवक और युवतियों रोजगार से जोड़ने की बात कही। इसके साथ ये भी कहा कि ऐसे विद्यालयउप स्वास्थ्य केन्द्र समेत अन्य सरकारी संस्थान, जहां कर्मियों की कमी हो वैसे जगहों पर गांव के ही पढ़े-लिखे लोगों को बहाल कर नौकरी से जोड़ा जाए।

इसके साथ ही मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने महिलाओं को जोहार योजना से जोड़ने को कहा। उन्होंने बताया कि जोहार योजना से जुड़कर महिलाएं मुर्गी पालन कर अंडा उत्पादन करेंगी। इस अंडे का खरीददार पास के स्कूल और पुलिस कैंप होंगे। जिससे महिलाओं को कोई परेशानी नहीं होगी।

इस बैठक में डीआईजी श्री विपुल शुक्ला, उपायुक्त श्री राजीव कुमार, एसपी श्री प्रशांत आनंद, उप विकास आयुक्त श्री अनिल कुमार सिंह, वन विभाग के क्षेत्र निदेशक श्री एमपी सिंह, डीएफओ श्री अनिल कुमार मिश्रा, डीआरडीए निदेशक श्री संजय भगत, सीआरपीएफ के कमांडेंट, जिला योजना पदाधिकारी श्री निर्मल झा समेत अन्य प्रशासनिक, पुलिस और वन विभाग के अधिकारी मौजूद थे।