प्रकृति के संरक्षण और संवर्द्धन का संदेश है सरहुल- रघुवर दास

 

मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने समस्त झारखण्डवासियों को सरहुल की बधाई देते हुए कहा कि सरहुल प्रकृति पर्व है। यह हमें प्रकृति के संरक्षण और संवर्धन का संदेश देता है। आदिकाल से हमारे पूर्वज प्रकृति की पूजा करते आये हैं, इसी कारण आज हमारा राज्य हरा-भरा है। मुख्यमंत्री अल्बर्ट एक्का चौक पर केंद्रीय सरना समिति द्वारा आयोजित सरहुल महोत्सव में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि हमारी जिम्मेदारी है कि हम वनों का संरक्षण कर आनेवाली पीढ़ी को हरा भरा झारखंड सौंपे। नृत्य, संगीत व गीत झारखंड की पहचान है। यह हमारे जनजातीय संस्कृति की समृद्ध विरासत है। अपनी संस्कृति पर हमें गर्व है। 

कार्यक्रम में मुख्य रूप से झारखंड खादी ग्रामोद्योग बोर्ड के अध्यक्ष श्री संजय सेठ, केंद्रीय सरना समिति के अध्यक्ष श्री फूलचंद तिर्की, केंद्रीय सरना समिति के कार्यकारी अध्यक्ष श्री बबलू मुंडा समेत बड़ी संख्या में गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।