झारखंड सरकार गांव, गरीब और किसान के समग्र विकास के लिए कृतसंकल्पित है: मुख्यमंत्री

 

मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने गुरुवार को दुमका जिला के सरैयाहाट हाईस्कूल मैदान में आयोजित सामुदायिक जनसभा को संबोधित क‍िया।

रांची. मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने गुरुवार को दुमका जिला के सरैयाहाट हाईस्कूल मैदान में आयोजित सामुदायिक जनसभा को संबोधित क‍िया। इस दौरान उन्होंने कहा क‍ि राज्य सरकार गांव, गरीब और किसान के समग्र विकास के लिए कृतसंकल्पित है। देश की आजादी के बाद आदिवासी, जनजाति एवं गरीबों के जीवन में जो बदलाव होने चाहिए थे, अपेक्षाकृत नहीं हो पाया। कुछ नेताओं ने इन्हें ठगने का कार्य किया है। देश में माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में सरकार बनने के बाद पिछले चार सालों में गरीबों के जीवन स्तर में सुधारात्मक बदलाव आया है। गरीबों की सुध ली गई है। महिलाओं को सशक्त करने के लिए राज्य सरकार ने मुख्यमंत्री लघु उद्यमी बोर्ड का गठन किया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि गांव में बेरोजगारी को मिटाने के लिए सरकार प्रतिबद्ध प्रयास कर रही है। राज्य में ऐसे तीन लाख महिलाएं हैं जिनके पास अपना जमीन एवं रोजगार नहीं है। इन महिलाओं को रोजगार से जोड़ा जा रहा है। गांव में मधुमक्खी पालन, लाह उत्पादन, तसर उत्पादन, अंडा उत्पादन, वनोपज को बढ़ावा देने जैसे काम किए जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में झारखण्ड में लगभग 15 लाख महिलाओं ने संगठित होकर एक माह का स्वच्छता अभियान चलाये जाने की सराहना की है। उन्होंने कहा कि झारखण्ड की इन महिलाओं ने दिखाया है कि नारी शक्ति, स्वच्छ भारत अभियान की एक ऐसी शक्ति है, जो सामान्य जीवन में स्वच्छता के अभियान को, स्वच्छता के संस्कार को प्रभावी ढंग से जन-सामान्य के स्वभाव में परिवर्तित कर रही हैं। झारखण्ड की महिलाओं की शक्ति को प्रधानमंत्री ने देश और दुनिया के समक्ष रखने का काम किया। उन्होंने बताया कि कितने कम समय में यहां की महिलाओं ने 1.70 लाख शौचालय निर्माण का कार्य किया है। जो काफी प्रशंसनीय और सराहनीय कार्य है।

मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने कहा कि आप महिला संगठनों के प्रयास से यह तय है कि 2018 तक झारखण्ड को खुले से शौचमुक्त (ओडीएफ) दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि सामाजिक एवं आर्थिक जीवन के हर क्षेत्र में महिलाओं की बराबरी की भागीदारी सुनिश्चित करना हम सबका कर्तव्य और जिम्मेदारी है। तभी न्यू इंडिया का सपना पूरा होगा। झारखण्ड सरकार भी महिलाओं को आर्थिक दृष्टिकोण से सशक्त करने का कार्य कर रही है। राज्य की महिलाओं को छोटे-छोटे उद्योगों से जोड़ा जा रहा है। राज्य में अब रेडी टू ईंट कार्यक्रम को भी महिला सखी मण्डलों द्वारा चलाया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि बच्चों को स्कूल जरूर भेजें। गरीबी मिटाने का मूलमंत्र श‍िक्षा है। शिक्षा से ही विकसित एवं समृद्ध झारखण्ड का सपना पूरा होगा। मजबूत संगठन से ही समृद्ध समाज का निर्माण होता है। समाज के लोग संगठित होकर आगे आएं और राज्य के विकास में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएं। सरकार के योजनाओं में अपनी भागीदारी रखें। बिजली, सड़क, पानी, शिक्षा एवं स्वास्थ्य के क्षेत्र में चल रही योजना का लाभ आम जनता तक पहुंचाने का कार्य करें। आगामी दिवाली तक हर घर तक बिजली पहुंचाना सरकार का लक्ष्य है। बिजली से ही विकास के द्वार खुलेंगे।

मुख्यमंत्री ने घटवाल/घटवार समाज अनुसूचित जनजाति में शामिल करने की मांग पर व‍िचार करने की बात कही। मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले सरकार की गलतियों का खामियाजा घटवाल.घटवार समाज आज भी भुगत रहा है। उन्होंने कहा कि टीआरआई द्वारा दो महीने में घटवाल/घटवार समाज का सामाजिक आर्थिक सर्वेक्षण कराया जाएगा। इसके बाद कैबिनेट में प्रस्ताव पारित कर सुधार के लिए केंद्र को रिपोर्ट भेजी जाएगी। कार्यक्रम के दौरान मुख्य रूप से मंत्री महिला बाल विकास एवं सामाजिक सुरक्षा विभाग श्रीमती डॉ. लुईस मराण्डीए मंत्री श्रम नियोजन एवं प्रशि‍क्षण विभाग  श्री राज पलिवार, मंत्री कृषि, पशुपालन एवं सहकारिता विभाग श्री रणधीर सिंह सहित  समाज के लोग बड़ी संख्या में उपस्थित थे।