जनजाति समाज का समग्र विकास हमारा लक्ष्य- रघुवर दास

 

रांची के सिलागाईं चान्हों में शुक्रवार को शहीद वीर बुधु भगत की जयन्ती समारोह सह विकास मेले का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की। इस दौरान लोगों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि जल्द ही सिलागाईं चान्हों में शहीद वीर बुधु भगत शक्ति पार्क का निर्माण किया जाएगा। साथ ही चान्हों चौक से सिलागाईं को जोड़ने वाली मुख्य सड़क का पुनर्निर्माण कार्य आगामी दो माह के अन्दर शुरू हो जाएगा। उन्होंने कहा कि अमर शहीद वीर बुधु भगत के सम्मान में उनकी जन्म स्थली सिलागाईं को शहीद आदर्श ग्राम के रूप में विकसित किया जाएगा। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि कार्यान्जलि ही सच्ची श्रद्धांजलि होगी। अमर वीर शहीदों के सपनों का झारखण्ड बनाना ही सरकार की प्राथमिकता है। हम सभी को अमर शहीद वीर बुधु भगत के आदर्शों से प्रेरणा लेनी चाहिए।

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि राज्य के तीव्र विकास में आप सभी सहभागी बनें। ग्रामीण क्षेत्रों का समग्र विकास करना सरकार की प्राथमिकता है। राज्य के सभी पंचायत में ग्राम विकास समिति का गठन किया जा रहा है। गांव की विकास योजना जैसे डोभा निर्माण, चेक डैम निर्माण, कृषि कार्य से संबंधित योजनाएं एवं विभिन्न छोटी-छोटी विकास योजनाएं गांव के ग्रामीण स्वयं तय करेंगे। 30 मार्च, 2018 तक सभी पंचायतों में ग्राम विकास समिति का गठन पूरी कर ली जाएगी। अप्रैल माह से विकास योजनाओं की राशि सीधे ग्राम विकास समिति को दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार का सृजन करना सरकार की प्राथमिकता है। ग्रामीण महिलाओं को कौशल विकास प्रशिक्षण देकर उन्हें हुनरमंद बनाने का काम किया जा रहा है। महिलाएं सखी मण्डल के माध्यम से रोजगार पा सकेंगी। राज्य सरकार ने लघु एवं कुटीर उद्योग को बढ़ावा देने के लिए मुख्यमंत्री उद्यमी बोर्ड का गठन किया है। इसके अंतर्गत लाह-मधुमक्खी बोर्ड, तसर बोर्ड, हस्तकरघा बोर्ड एवं मध्यम-लघु उद्योग बोर्ड बनाया गया है। इन सभी बोर्ड के गठन से किसानों एवं छोटे-छोटे उद्योग से जुड़े ग्रामीणों को लाभ मिलेगा। किसानों एवं ग्रामीणों के द्वारा उत्पादित किये गये उत्पाद को बोर्ड खरीदेगी। लाह की खेती में भी रोजगार की असीम संभावनाएं हैं। किसान अधिक से अधिक लाह उत्पादन में जोर दें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में सड़क कनेक्टीविटी को सुदृढ़ किया जा रहा है। राज्य के सभी प्रखण्डों में कोल्ड रूम स्थापित किये जाएंगे। किसानों के हित को देखते हुए राज्य में 52 फूड प्रोसेसिंग प्लांट का भी निर्माण किया जा रहा है। ग्रामीण क्षेत्रों में मधुमक्खी पालन में भी रोजगार की संभावनाएं हैं। मधुमक्खी पालन से जुड़े किसानों को सरकार मधुमक्खी पालन बक्सा निःशुल्क उपलब्ध करा रही है। किसानों को मधुमक्खी पालन हेतु प्रशिक्षित भी किया जा रहा है। राज्य के मधुमक्खी पालन से संबंधित प्लांट भी लगाया जा रहा है। जल्द ही राज्य सरकार एवं बाबा रामदेव की कम्पनी पतंजलि के बीच एमओयू होगा।

मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने कहा कि आदिवासी समुदाय ने राज्य एवं देश में अपनी संस्कृति और परंपरा को संरक्षित रखा है। राज्य सरकार ने आदिवासी समुदाय के धर्म स्थलों जैसे सरना, मसना इत्यादि को सजाने-सवांरने का कार्य कर रही है। राज्य के विकास में आदिवासी समाज के लोग अब बढ़-चढ़ कर आगे आ रहे हैं।

“गरीबों के चेहरे पर मुस्कान लाना सरकार की प्राथमिकता है। सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं का लाभ ग्रामीणों तक पहुंचाना हम सभी का कर्तव्य है। संकल्प से ही सिद्धि मिलती है। वर्ष 2022 तक झारखण्ड को विकसित एवं समृद्धशाली राज्य की श्रेणी में लाकर खड़ा करना है। माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नया भारत बनाने का सपना तभी साकार होगा जब हम एक नया झारखण्ड बनाएंगे।”

कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने शहीद वीर बुधु भगत की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। मेले में लगाये गये विभिन्न स्टॉलों का परिभ्रमण एवं ग्रामीण लाभुकों एवं किसानों के बीच परिसम्पतियों का वितरण भी किया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से गुमला विधायक श्री शिव शंकर उरांव, मांडर विधायक श्रीमती गंगोत्री कुजूर, रांची उपायुक्त श्री राय महिपत रे, पूर्व सांसद श्री दुखा भगत, शहीद वीर बुधु भगत स्मारक समिति के अध्यक्ष श्री शिवपूजन भगत, महासचिव श्री गोपाल भगत, उपाध्यक्ष श्री अफ्रेड मिंज सहित अन्य गणमान्य लोग और बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित रहे।