मधुमक्खी पालन से झारखण्ड में होगी मीठी क्रांति- रघुवर दास

 

मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने कहा कि राज्य सरकार 10 हजार किसानों के बीच 2.5 लाख मधुमक्खी बॉक्स का वितरण करेगी। किसानों के प्रशिक्षण हेतु मुख्यमंत्री लघु एवं कुटीर उद्यम बोर्ड ने विकास भारती और रामकृष्ण मिशन के 600 प्रशिक्षित ट्रेनरों को नियुक्त किया है, जो 10 हजार किसानों को मधुमक्खी पालन का प्रशिक्षण देंगे। इससे इन किसानों के जीवन में काफी बदलाव आयेगा। इनकी आर्थिक स्थिति सुदृढ़ होगी। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के सपने को पूरा करने में इससे मदद मिलेगी। श्री दास शनिवार को झारखंड राज्य खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के द्वारा किसानों के बीच मधुमक्खी बॉक्स वितरण कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों द्वारा उत्पादित मधु को सरकार खरीद लेगी। किसानों को बाजार खोजने की जरूरत नहीं रहेगी। पहले चरण में नौ जिलों में 5.5 प्रोसेसिंग इकाई खोली जायेगी। इस मधु को प्रोसेसिंग कर इसकी ब्रांडिंग और मार्केटिंग उद्यम बोर्ड के माध्यम से की जायेगी। साथ ही पतंजलि से भी करार किया जायेगा।

श्री दास ने कहा कि लाह के क्षेत्र में भी झारखंड में असीम संभावनाएं हैं। सरकार लाह के लिए भी प्रोसेसिंग यूनिट लगा रही है। देश का 62 प्रतिशत लाह हमारे राज्य में पैदा होता है। इनसे उत्पाद तैयार कर बेचने पर किसानों को अच्छी आमदनी होगी। सरकार इसी दिशा में काम कर रही है। उन्होंने कहा कि किसान लाह का भी उत्पादन करें। सारा लाह सरकार खरीद लेगी। सखी उद्यमी मंडल के माध्यम से इनके उत्पाद तैयार कर इनकी मार्केटिंग और ब्रांडिंग की जायेगी। वनोपज को बढ़ावा देकर हम राज्य के गरीबों के चेहरे पर मुस्कान ला सकते हैं। 

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने सभी लोगों से खादी उत्पादों को खरीदने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि खादी मॉल के लिए एचइसी क्षेत्र में एक एकड़ जमीन खादी बोर्ड को दी जायेगी। यहां खादी से उत्पादित सामान रहेंगे। इससे रोजगार के काफी अवसर पैदा होंगे। रोजगार को बढ़ावा देने हेतु सरकार कई कंपनियों के साथ करार कर रही है। जल्द ही बीपीओ के माध्यम से 2500 नवयुवक-युवतियों को रोजगार दिया जा रहा है।

“पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी ने कहा था कि जब तक गरीब के चेहरे पर मुस्कान न आयेए तब तक चलते रहें। हमारी सरकार का भी यही लक्ष्य है। हमारे लिए विकास तभी है, जब गरीब के चेहरे पर मुस्कान आये, वे अच्छे कपड़े पहनेए अच्छे स्कूल में पढ़े। हमारे पास 40 प्रतिशत खनिज संपदा, 13 तरह के वनोपज, मेहनतकश मानवबल हैं। फिर कोई कारण नहीं कि हम पिछड़ जायें। सभी को मिल कर झारखंड को आगे ले जाना है।”

कार्यक्रम में पद्मश्री अशोक भगत और खादी बोर्ड के अध्यक्ष श्री संजय सेठ ने भी अपने विचार रखे। इस दौरान उद्योग सचिव श्री सुनील कुमार बर्णवाल, झारक्राफ्ट के एमडी श्री मंजुनाथ भजंत्री, केवीआइसी के निदेशक श्री रामवृक्ष राम, झारकाफ्ट की सीइओ श्रीमती रेणु गोपीनाथ पणिकर, खादी बोर्ड के सीइओ श्री दीपांकर पांडा समेत बड़ी संख्या में लोग उपस्थित रहे।