अपने व्यवसाय से मालकिन बनेंगी महिलाएं- रघुवर दास

 

मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने शुक्रवार को सिदरौल स्थित लाह कारखाने के परिष्करण इकाई की दोबारा शुरुआत की। ये कारखाना लघु एवं कुटीर उद्यम बोर्ड व झास्कोलैप के संयुक्त तत्वावधान में शुरू किया गया है। इस मौके पर मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने कहा कि सरकार लघु एवं कुटीर उद्यम बोर्ड के माध्यम से राज्य की महिलाओं को रोजगार से जोड़ने का काम कर रही है, जिससे झारखंड की बहनें मजदूर न बनकर अपने व्यवसाय की मालकिन बनें। इसके लिए सरकार सखी उद्यमी मंडल का भी गठन कर रही है।

“पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी की सोच थी कि किसी भी उद्योग में वहां काम करनेवालों का अंशदान जरूर हो और उन्हें लाभांश भी मिले। इससे काम में तेजी आयेगी और सफलता भी प्राप्त होगी।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड में उद्यमी सखी मंडल द्वारा संचालित यह पहली इकाई है। इस केंद्र बिंदु को राज्य के लिए एक रोल मॉडल के रूप में विकसित करें। उन्होंने कहा कि महिलाओं को आगे बढ़ाने के लिए सरकार काफी प्रयास कर रही है। इसमें पहले घर की मालकिन बनाने के लिए एक रुपये में संपत्ति की रजिस्ट्री की सुविधा दी। अब कामकाज में भी महिलाओं को आगे लाने का काम किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में लाह और मधुमक्खी पालन की काफी संभावनाएं हैं। देश-विदेश में इन उत्पादों की भारी मांग है। ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने में इनकी भूमिका अहम है। किसानों से अपील है कि ज्यादा से ज्यादा मात्रा में इनका उत्पादन करें। सरकार इन्हें खरीद लेगी। फिर इनकी प्रोसेसिंग कर तैयार उत्पादन की मार्केटिंग और ब्रांडिंग की जायेगी। इससे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के लक्ष्य को पाया जा सकेगा। इसके साथ ही झारखंड जैसे समृद्धशाली राज्य से बेरोजगारी और गरीबी समाप्त हो सकेगी।

“आज मोमेंटम झारखंड की पहली वर्षगांठ भी है। एक साल के दौरान राज्य में काफी निवेश हुआ है। फूड प्रोसेसिंग यूनिट, वस्त्र उद्योग समेत कई योजनाएं धरातल पर उतर गयी हैं। आने वाले समय में और तेजी से उद्योग धंधे लगेंगे। इससे बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर पैदा होंगे।”

कार्यक्रम में मुख्य सचिव श्रीमती राजबाला वर्मा, उद्योग सचिव श्री सुनील कुमार बर्णवाल, कृषि सचिव श्रीमती पूजा सिंघल,झारक्राफ्ट के प्रबंध निदेशक श्री मंजुनाथ भजंत्री, बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्ष श्रीमती आरती कुजूर, झारक्राफ्ट की सीइओ श्रीमती रेणु गोपीनाथ पाणिकर समेत अन्य लोग उपस्थित रहे।