‘महिलाओं को स्वरोजगार से जोड़ने के लिए प्रतिबद्ध है सरकार’

 

जमशेदपुर: मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने कहा कि राज्य में रोजगार सृजन हेतु सरकार प्रतिबद्ध है। ग्रामीण स्तर पर छोटे-छोटे उद्योगों को स्थापित कर गरीबी उन्मूलन हेतु सरकार काम कर रही है। इसी कड़ी में महिला स्वयं सहायता समूहों को रोजगार से जोड़ने का काम किया जा रहा है। महिलाओं को कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम के तहत प्रशिक्षित कर इन्हें हुनरमंद भी बनाया जा रहा है। यह बातें श्री दास ने जमशेदपुर स्थित सामुदायिक विकास भवन बाराबस्ती बागुनहातु, बारीडीह में महिला सहायता समूह द्वारा सेनेटरी नैपकिन पैड उत्पादन से जुड़े केन्द्र का अवलोकन करते हुए कहीं।

उन्होंने कहा कि कौशल विकास प्रशिक्षण का सीधा लाभ रोजगार के रूप में महिलाओं को मिल रहा है। राज्य में पहले की अपेक्षा आज महिला स्वयं सहायता समूह ज्यादा सक्रिय हैं।

श्री दास ने कहा कि “प्रत्येक व्यक्ति चाहे वो साक्षर हो या निरक्षर इश्वर ने सभी को बुद्धि और हुनर से नवाजा है। जरूरत है उस हुनर और सोच को विकसित कर स्वरोजगार से जोड़ने का।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने बजट में यह प्रावधान किया है कि सेनेटरी नैपकिन पैड उत्पादन से जुड़ी महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा उत्पादित सेनेटरी नैपकिन पैड स्वास्थ्य विभाग खरीदेगी। इसके लिए राज्य सरकार ने 25 करोड़ रूपए का बजट निर्धारित किया है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा खरीदी गयी सेनेटरी नैपकिन पैड स्कूल में पढ़ने वाली बच्चियों को वितरित किया जाएगा। इससे महिला सहायता समूहों को रोजगार के अवसर भी उपलब्ध होंगे और स्वास्थ्य विभाग को किसी ठेकेदार या कम्पनी से सेनेटरी नैपकिन पैड खरीदने की जरूरत भी नहीं पड़ेगी।

मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने महिला सहायता समूह केन्द्र में सेनेटरी नैपकिन पैड निर्माण से जुड़ी महिलाओं से मिलकर उनके कार्य करने की बारीकियों को जाना। इस संबंध में मुख्यमंत्री ने कार्य से जुड़ी महिलाओं को कई आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए। उन्होंने कार्यरत महिलाओं से कहा कि रोजगार के साथ-साथ समाज के लिए भी कार्य करें। महिलाओं को जागरूक कर उन्हें बिमारियों से बचने का उपाय बताएं। सेनेटरी नैपकिन पैड के इस्तेमाल के फायदों के प्रति जागरूक करें।