राजधानी सहित राज्य के सभी नगर निगम और पंचायत परिषद क्षेत्र में बनेंगे बहुउद्देशीय कन्वेंशन सेंटर

 

मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने रविवार को जमशेदपुर के कदमा, उलियान स्थित बहुउद्देशीय कन्वेंशन सेंटर का शिलान्यास किया। पंडित दीनदयाल उपाध्याय की पुण्यतिथि के इस पुनीत अवसर पर उन्होंने घोषणा की कि जमशेदपुर के नवनिर्मित  कन्वेंशन सेंटर का नामकरण  पंडित दीनदयाल उपाध्याय के नाम पर होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि शहर किसी भी राज्य की आन-बान और शान होते हैं। देश और दुनिया भर से लोग शहरों में आते हैं और शहर से ही राज्य की पहचान बनती है। 

“हमारी सरकार नगर विकास के क्षेत्र में 32,000 करोड़ रुपए की राशि खर्च कर रही है। आर्थिक विकास के क्षेत्र में शहरीकरण और औद्योगीकरण की बहुत बड़ी भूमिका होती है। आर्थिक विकास दर में गुजरात के बाद पूरे देश में झारखंड का दूसरा स्थान है जबकि झारखंड को अस्तित्व में आए हुए महज 17 साल हुए हैं। यह झारखंड की सवा तीन करोड़ जनता की सोच और संकल्प शक्ति का नतीजा है।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य की सभी समस्याओं का समाधान विकास और तेज गति से विकास में निहित है। इसी प्रेरणा से राज्य सरकार काम कर रही है और इसके लिए जनता से  भी निरंतर सहयोग की अपेक्षा है।
मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने कहा कि शहर की अवहेलना नहीं की जा सकती क्योंकि शहरी क्षेत्रों में लगातार जनसंख्या बढ़ती जा रही है जिसके कारण शहरी क्षेत्र को मूलभूत सुविधाएं प्रदान करना सरकार का दायित्व है। आज के ज्ञान आधारित युग में बदलते समय के अनुरुप बुनियादी आवश्यकताओं को पूरा करने का काम हमारी सरकार कर रही है। इसी के निमित्त सरकार द्वारा राजधानी सहित राज्य के जितने भी नगर निगम और पंचायत परिषद क्षेत्र हैं वहां पर बहुउद्देशीय कन्वेंशन सेंटर बनाए जाएंगे। समाज के विभिन्न वर्गों के लोग अपनी आवश्यकताओं के अनुसार कन्वेंशन सेंटर का प्रयोग कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि 2005 से ही इस प्रकार के कन्वेंशन सेंटर की स्थापना का विचार था और इसी के अनुरूप जमशेदपुर के सूर्य मंदिर के निकट ढाई करोड़ की लागत से बिरसा मुंडा नगर भवन अस्तित्व में आया। मुख्यमंत्री ने कहा कि इन कन्वेंशन सेंटर के प्रांगण के भीतर विभिन्न प्रक्षेत्र अवस्थित रहेंगे जिनमें लगभग 10 करोड़ रुपए के निवेश की योजना है। आने वाले समय में हर क्षेत्र में कन्वेंशन सेंटर की स्थापना राज्य सरकार द्वारा की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जमशेदपुर की देश और दुनिया में अनूठी पहचान है और जमशेदपुर के निवासी होने के नाते हमारी जिम्मेदारी है कि इस शहर के यश और कीर्ति को अक्षुण्ण बनाए रखें। यहां के लोगों को हर प्रकार की बुनियादी सुविधा मिल सके सरकार इसके लिए पूरे मनोयोग के साथ कार्य कर रही है। 

 

“हमारी सरकार व्यक्तिगत स्वार्थ की भावना से ऊपर उठकर लगातार जन-जन के उत्थान और कल्याण के लिए कार्य कर रही है। समाज के हित और राज्य के हित सरकार की प्राथमिकता में हैं और व्यक्तिगत हित बहुत पीछे हैं। इसी के निमित्त समाज के हित के लिए कन्वेंशन सेंटर की परिकल्पना सरकार ने की है और इसे साकार करने का काम शुरू किया गया है।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वच्छता के क्षेत्र में भी देशभर के सर्वोच्च 10 शहरों में जमशेदपुर का स्थान होना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि जब हम विकसित विदेशी देशों में जाते हैं तो हमारे मन में कसक रहती है कि हमारे शहर की सड़कें और घूमने-फिरने के स्थल भी इसी तरह साफ सुथरे हो। हमें इस बात से प्रेरणा लेनी चाहिए कि वहां के लोग अपने शहर ,अपने स्थान को स्वच्छ रख सकते हैं तो हम क्यों नहीं रख सकते। लोगों को अपनी सोच को बदलना है। उन्होंने कहा कि जिस दिन जमशेदपुर की 10 लाख की आबादी यह ठान लेगी कि हमें देश के सर्वोच्च 10 वर्ष शहरों में अपने शहर को लाना है तो दुनिया की कोई ताकत इस संकल्प को पूरा होने से नहीं रोक सकती उन्होंने जमशेदपुर वासियों से यह अपेक्षा व्यक्त की कि वे अपने शहर और राज्य के प्रति अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन करें और सरकार के साथ कदम से कदम मिलाकर लक्ष्य की प्राप्ति में सहभागी बने।

इस अवसर पर झारखंड सरकार के  नगर विकास मंत्री श्री सी.पी. सिंह, नगर विकास एवं आवास विभाग के प्रधान सचिव श्री अरुण कुमार सिंह, कोल्हान प्रमंडल के आयुक्त श्री बृजमोहन कुमार, पूर्वी सिंहभूम के उपायुक्त श्री अमित कुमार, पूर्वी सिंहभूम के वरीय पुलिस अधीक्षक श्री अनूप बिरथरे तथा अन्य पदाधिकारी गण एवं बड़ी संख्या में अन्य लोग उपस्थित थे।