झारखण्ड बनेगा निवेशकों की पहली पसंद

 

मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने शुक्रवार को सरायकेला खरसावां में राम कृष्ण फोर्जिंग्स के 7वें फेज की आधारशिला रखते हुए कहा कि हमारी सरकार की सबसे पहली चुनौती थी बेरोजगारी, गरीबी, अभाव की जिंदगी को दूर करना। मैंने इसे अवसर के रूप में लिया। मोमेंटम झारखंड, स्किल झारखंड के जरिये हमने राज्य की सकारात्मक छवि बनाने का कार्य किया है। राज्य की सवा तीन करोड़ जनता को नमन, जिन्होंने नई सोच के साथ झारखण्ड में बदलाव को स्वीकार किया है।
 मुख्यमंत्री ने आरकेएफएल के चेयरमैन श्री महाबीर प्रसाद जालान के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि झारखंड की धरती पर 3D तकनीकी प्लांट लगाएं।

“झारखण्ड में फोर्जिंग एवं फॉउंड्रिंग की काफी संभावनाएं हैं। झारखंड में औद्योगीकरण का नया परिवेश बना है। हमारी सरकार एक लाख बेरोजगारों को रोजगार देने जा रही है। हमने सभी कंपनियों को निर्देश दिया है कि कोई भी बाहरी नियुक्ति नहीं होगी। राज्य से प्रतिभा और बेरोजगारों का पलायन एक कलंक है। इससे आर्थिक, शारीरिक शोषण भी होता है। मोमेंटम झारखंड से पलायन रोकने की शुरुआत हो चुकी है। टेक्सटाइल क्षेत्र में रोजगार ज्यादा हैं। 82% कुकून झारखंड की धरती पर है। देश विदेश में हमारे धागे का मांग ज्यादा है। हम टेक्सटाइल पॉलिसी लेकर आए। हमारी टेक्सटाइल पॉलिसी देश की सर्वोत्तम पॉलिसी है।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरायकेला खरसावां की धरती पर पुनः मार्च में एक और भूमि पूजन कार्यक्रम करेंगे जो टेक्सटाइल के क्षेत्र के लिए होगा। यहां गुजरात की कंपनी अपना प्लांट लगाएगी।


 
श्री रघुवर दास ने कहा कि सरकार की नीति एवं पॉलिसी अच्छी हो तो निवेशक आएंगे। हमने निवेश का माहौल दिया है। निवेशक झारखण्ड आ रहे हैं। तसर, मीठी क्रांति, लाह, हैंडीक्राफ्ट में बेहतर करना हमारा लक्ष्य है। मीठी क्रांति अंतर्गत उत्पादित शहद को बोर्ड खरीदेगा। शहद पतंजलि को बेचा जाएगा। उन्होंने कहा कि हमने गरीबी उन्मूलन योजना बनाकर गरीब को अपने पैरों पर खड़ा किया। जिनके पास रोजगार और घर नहीं है उन्हें घर एवं स्वरोजगार से जोड़ने का कार्य किया जा रहा है। 

“2022 तक झारखंड विकसित राज्य की श्रेणी में होगा। देश का 40% संसाधन हमारे पास है। विकास की दिशा में हमारी सरकार कार्य कर रही है। देश ही नहीं विश्वस्तरीय राज्यों में झारखंड की गिनती होगी। राज्य के जिस गांव में 50% आदिवासी हैं वहां पर आदिवासी विकास समिति और जहां 50% से कम हैं वहां ग्राम विकास समिति बनाई जाएगा। गांव में विकास की राशि सीधे समिति को दी जाएगी। समिति डोभा, कुआं, चेकडैम इत्यादि बनाएगी।” 

मुख्यमंत्री ने कहा कि 2018 तक घर घर में बिजली पहुंचाने का लक्ष्य राज्य सरकार हर हाल में पूरा करेगी। यह हमारा संकल्प है।
 उज्जवला योजना अंतर्गत गैस कनेक्शन सुदूर गांव के हर परिवार को दिया जाएगा ताकि हमारी माताएं, बहनें लकड़ी का उपयोग जलावन के लिए न करें। 

मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री सुनील बर्णवाल ने कहा कि कई वर्षों के बाद झारखंड में बहुत बड़ा प्लांट लगने जा रहा है, जो यूनिक उत्पादन करेगा। झारखंड के लिए यह बहुत बड़ी उपलब्धि है। इसके लिए रामकृष्ण फोर्जिंग कंपनी को विशेष धन्यवाद। 24 एकड़ पर भूमि पूजन अच्छी उपलब्धि है। माननीय मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में एक बड़ा निर्णय लिया गया जिसके माध्यम से राज्य में उद्योगों के लिए जमीन की उपलब्धता केवल आसान नहीं हुई बल्कि आवंटन करने की प्रक्रिया को आसान किया गया है। उन्हें 21 दिन में जमीन उपलब्ध कराया जा रहा है। 200 उद्योगों का शिलान्यास हो गया है। इसके माध्यम से लगभग पचास हजार रोजगार सृजन की कार्रवाई प्रारंभ हुई। उन्होंने कहा कि उद्योग खान एवं भूतत्व विभाग की ओर से मैं ये आश्वासन देना चाहता हूं कि जो भी निवेशक यहां आए हैं वे अपने उद्योगों का विस्तार, नए उद्योग लगाने का प्रस्ताव तैयार करें। राज्य सरकार उनके साथ है। सभी आसान तरीके से उन्हें क्लीयरेंस दिया जाएगा ताकि उन्हें सुखद अनुभूति हो, पूरे देश मे अच्छी मिसाल देंगे ताकि ज्यादा से ज्यादा निवेश हो। सभी निवेशकों को सभी प्रकार की आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। आने वाले कुछ दिनों में झारखंड टॉप राज्यों में होगा।