मुख्यमंत्री रघुवर दास ने झारखण्ड को दी 243.60 करोड़ की सौगात

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने आज राजभवन से कांटा टोली पथ को स्मार्ट बनाए जाने सहित नगर विकास विभाग की नौ अहम योजनाओं का शिलान्यास किया। इन सभी योजनाओं पर 243.60 करोड़ रुपये का खर्च अनुमानित है। इस मौके पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि झारखण्ड विकास के पथ पर निरंतर आगे बढ़ रहा है।शहरों पर बढ़ती जनसंख्या का दवाब है। यातायात, आवास, जलापूर्ति, स्वास्थ्य यहां री बुनियादी समस्या है। इसे हल करने के लिए हमारी सरकार लगातार प्रयास कर रही हैं। पीएम मोदी का सपना है कि 2022 तक कोई गरीब बेघर न रहे, टीम झारखण्ड इस सपने को साकार करने में लगी है। इसकी शुरुआत हो चुकी है चाहे वो इस्लाम नगर हो या फिर राज्य का कोई और जिला।
“2022 तक हमारी सरकार शुद्ध पेयजल घर-घर तक पहुंचाएगी, ये हमारा संकल्प है। सरकार द्वारा बनाए जा रहे नए घरों में बिजली और पानी की व्यवस्था करना सरकार की ही जिम्मेदारी है, और हम ये जिम्मेदारी जरुर पूरी करेंगे।”

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि हमारी सरकार राज्य के सर्वांगीण विकास के लक्ष्य को साकार करने में जुटी है। हमारी कोशिश है कि विकास की रोशनी समाज के हर तबके तक पहुंचे। इसी कड़ी में आज रांची में 243.60 करोड़ रुपये की 9 परियोजनाओं का शिलान्यास किया। झारखंड के विकास के लिए हमारी सरकार लगातार जुटी हुई है। उन्होंने कहा कि  “मैं जब विधायक था तो कुष्ठ आश्रम से विशेष लगाव था। मेरा मानना है कि उनकी सेवा करना हमारी अहम जिम्मेदारी है। इसी कड़ी में सरकार ने देवघर में कुष्ठ आश्रम बनाने का फैसला किया है।”

देवघर के कालीरेखा कुष्ठ आश्रम में 8 खंड, 64 इकाई के निर्माण की योजना का शिलान्यास किया। 4.54 करोड़ रुपये इस योजना की लागत है, जो कि 12 महीने के भीतर पूरी कर ली जाएगी।
इसके साथ ही इस्लाम नगर, राँची में 444 घरों का निर्माण होगा। इन घरों में जी+3, STP, वर्षा जल संचय और अग्निशमन जैसी तमाम सुविधाएं उपलब्ध होंगी। इस योजना की लागत 30.34 करोड़ रुपये है और 24 महीने के भीतर इस योजना को पूर्ण कर लिया जाएगा।

“ये राज्य आपका है, शहर आपका है। सरकारें तो आती जाती रहेंगी। जब तक आप अपने राज्य और शहर से प्यार नहीं करेंगे, कायाकल्प नहीं हो सकता। आप खुद अपने मोहल्ले और गलियों को साफ रखें।”
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि 70 साल से गरीब के नाम पर बहुत राजनीति हो चुकी है। गरीब हर समाज में होता है, हर समुदाय में होता है। हम तुष्टीकरण और वोटबैंक की राजनीति नहीं करते। हम सबका साथ सबका विकास के लक्ष्य के साथ काम करते हैं। राजभवन से कांटाटोली पथ के चौड़ीकरण एवं सौंदर्यीकरण की योजना का शिलान्यास किया। इस मार्ग पर साइकिल स्टैंड, बस स्टैंड, फुटपाथ, अंडरपास और यूटिलिटी कॉरिडोर बनाए जाएंगे। इस योजना की कुल लागत 92.99 करोड़ रुपये है और 24 महीने के भीतर इस योजना को पूर्ण कर लिया जाएगा। बासुकीनाथ धाम में 10.71 करोड़ रुपये की लागत से क्यू कॉम्प्लेक्स के निर्माण और संस्कार मंडप के विस्तारीकरण की योजना का शिलान्यास किया, जिसे 12 महीने में पूरा कर लिया जाएगा। चास, हजारीबाग और गिरिडीह में सेप्टेज योजना का शिलान्यास किया। 12 महीने के भीतर इन सभी योजनाओं को पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। देवघर में 3.99 करोड़ और मेदिनीनगर में 1.47 करोड़ की लागत से शवदाहगृह का निर्माण होगा। इसमें विद्युत शवदाह गृह, प्रतीक्षा कक्ष और प्रशासनिक कक्ष, स्नानगृह शौचालय और स्टाफ क्वार्टर आदि की सुविधा उपलब्ध होगी। 12 महीने के भीतर इस योजना को पूरा किया जाएगा ।

इस अवसर पर नगर विकास मंत्री श्री सी.पी. सिंह, विधायक डॉ. जीतूचरण राम, मेयर श्रीमती आशा लकड़ा, अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष श्री कमाल खां, विकास आयुक्त श्री अमित खरे, नगर विकास विभाग के प्रधान सचिव श्री अरुण सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री सुनील कुमार बर्णवाल समेत बड़ी संख्या में गणमान्य उपस्थित रहे।