झारखण्ड ने रचा…इतिहास, निजी क्षेत्र में 27 हजार से ज्यादा युवाओं को मिले नियुक्ति पत्र

 

झारखण्ड ने आज वो कर दिखाया जिसकी कल्पना करना तक नामुमकिन था रांची के खेलगांव स्थित टाना भगत इंडोर स्टेडियम में राष्ट्रीय युवा दिवस के अवसर पर आयोजित स्किल समिट 2018 के अवसर पर 27 हजार से अधिक युवाओं को नियुक्ति पत्र प्रदान किये गये मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने कहा कि सरकार ने राज्य से बेरोजगारी हटाने का प्रण लिया है। आज 27 हजार से अधिक युवाओं को रोजगार मिलने के अवसर पर उन्हें बधाई।

 

*यह एक ऐतिहासिक क्षण है**, जब एक साथ 27 हजार से अधिक युवाओं को निजी क्षेत्रों में रोजगार प्राप्त हुआ है। आप दिल लगा कर काम करें और झारखंड का नाम रौशन करें। *

स्टेडियम में उपस्थित युवाओं को संबोधित करते हुये उन्होंने कहा कि आप युवाओं के उत्साह को देख ऐसा लग रहा है कि युवाओं को आगे बढ़ने से कोई रोक नहीं सकता। स्वामी विवेकानंद जी की जंयती जिसे पूरा देश राष्ट्रीय युवा दिवस के रुप में मना रहा है के अवसर पर झारखण्ड इतिहास रच रहा है । हमारी सरकार ने आज 25 हजार युवाओं को रोजगार देन का वादा किया था उसे आज पूरा किया है ।

*झारखण्ड प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नये भारत के निर्माण के सपने को पूरा करने में अपनी सीधी भागीदारी निभा रहा है। *

श्री रघुवर दास ने कहा कि पूरा विश्व जब बेरोजगारी की समस्या से जूझ रहा है ऐसे समय में झारखण्ड सरकार ने एक टीम भावना से काम कर युवाओं को बेहतर रोजगारोन्मुख इको सिस्टम दिया है । आज हम शान से कह सकते हैं कि रोजगार देखना है, विकास देखना है तो झारखण्ड आईये।

*1977 में मेरे पिताजी टाटा स्टील कंपनी से सेवा मुक्त हुए थे और मैंने 1980 में 1500 रुपये में नौकरी शुरू की साथ ही कुजू से कोयला लाकर भी अपनी टाल के माध्यम से बेचा । इसलिए बेरोजगारी और गरीबी का दर्द मैं समझता हूं । झारखंड का मुख्यमंत्री बनने पर मैंने संकल्प लिया के मैं झारखंड का नंबर 1 मजदूर बन कर राज्य की सेवा करुंगा। मुख्यमंत्री का पद मुझे सेवा के लिये ही मिला है ।  *

मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री जी की सोच है कि भारत की दुनिया भर में स्किल्ड इंडिया के रुप में एक अलग पहचान बने। उन्होंने कहा कि झारखण्ड में कुशल श्रमिकों की एक फौज तैयार हो रही है, जो राज्य और देश के बाहर भी लोगों के बीच अपना ध्यान आकृष्ट करेगी । हमारी सरकार ने 700 करोड़ रुपये खर्च कर झारखण्ड के बच्चों को कुशल बनाने का निर्णय लिया है।

*अटल जी ने कहा था कि अंधेरा छटेंगा और विकास का सूरज निकलेगा झारखंड में अपार संभावनाएं हैं आने वाले वर्षों में हमारा देश विकसित राष्ट्रों की श्रेणी में खड़ा होगा।*

मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि राजधानी रांची में भी जल्द विदेश भवन बनेगा। आप युवा देश के बाहर सरकार द्वारा अधिकृत एजेंसी के माध्यम से ही जाएं। अगर बाहर कुछ दुर्घटना हो जाती है तो राज्य सरकार 5 लाख अनुदान स्वरुप प्रदान करेगी। आज हम 25 हजार लोगों को नौकरी दे रहे हैं अगले साल हम झारखंड के और एक लाख युवाओं को रोजगार देंगे ।

केंद्रीय मंत्री पेट्रोलियम प्राकृतिक गैस एवं कौशल विकास श्री धर्मेंद्र प्रधान ने इस अवसर पर कहा कि झारखंड की कार्यकुशलता अब चरम पर है । यह सजग सरकार जिम्मेवार सरकार की छवि को परिलक्षित करता है ।मुझे यहां आकर इस बात का इस बात की जानकारी हुई कि झारखंड के 24 जिलों में मेगा स्किल डेवलपमेंट सेंटर स्थापित करने की योजना है । यह यह सोच बहुत आगे की है। झारखंड समृद्ध बनेगा ।

*मेरा मानना है कि विश्व की आधुनिकता को भारत के संस्कार से जोड़ने का नाम कौशल विकास है। इस पवित्र यज्ञ जनआंदोलन में झारखंड सरकार ने मुझे शामिल किया इसके लिए धन्यवाद।*

श्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि केन्द्र सरकार की योजनाओं को पूरे देश में किसी राज्य ने अगर मूर्तरूप दिया है तो वह झारखंड है। एक जिम्मेवार शासक और हम सब की जिम्मेवारी है नौजवानों व आने वाली पीढ़ी को सुविधाओं से आच्छादित व उन्हें सम्मान की जिंदगी प्रदान करने की।इसमें कौशल विकास का महत्वपूर्ण योगदान है।

*यह **3 साल की स्थित सरकार की महत्वपूर्ण देन है कि आज हम एक साथ 25000 से ज्यादा युवाओं को रोजगार प्रदान कर रहे हैं। *

शिक्षा मंत्री श्रीमती नीरा यादव ने कहा कि युवा दिवस के अवसर पर 25 हजार से ज्यादा युवाओं को नौकरी प्रदान कर मोमेंटम झारखण्ड की वास्तविक छवि उभर कर सामने आई है। राज्य सरकार का संकल्प है कि प्रत्येक वर्ष 1 लाख युवाओं का कौशल विकास कर रोजगार से जोड़ा जायेगा ।

*स्वामी विवेकानंद जी ने कहा था कि देश के बच्चों को ऐसी शिक्षा मिले जिससे उनका सर्वांगीण विकास हो सके**, वे आत्मनिर्भर बन सकें, चरित्र का निर्माण और समाज सेवा के भावना उनमें भरी हो।*

श्रीमती यादव ने आगे कहा कि प्रधानमंत्री जी ने भी गरीबी को चुनौती के रूप में लेकर इसके खिलाफ युद्ध छेडने की बात कही है। प्रधानमंत्री ने कौशल युक्त मानव संसाधन पर जोर दिया है । राज्य सरकार ने भी प्रधानमंत्री जी की बातों को आत्मसात करते हुए कौशल विकास हेतु 49 चयनित एजेंसियों, 263 कौशल विकास केंद्रों,

22 सेक्टर और 90 ट्रेड के माध्यम से युवाओं का कौशल विकास कर रही है ।

मुख्यसचिव श्रीमती राजबाला वर्मा ने कहा कि स्वामी विवेकानंद जी ने कहा था कि लगातार निरंतर चलते रहना है.. झारखण्ड सरकार भी स्वामी जी की उन बातों को आत्मसात करते हुए कार्य कर रही है ताकि राज्य के युवाओं का सशक्तिकरण हो तथा यहां की सवा तीन करोड़ जनता का समग्र विकास और समृधि सुनिश्चित हो सके ।

*झारखण्ड युवा राज्य है। राज्य के युवाओं के पास ऊर्जा**, साहस, सपने और आकांक्षाएं हैं। ये ही राज्य की शक्ति हैं जिसपर हमें गर्व है। माननीय मुख्यमंत्री जी कहते हैं कि युवाओं को सपने देखने दो, लक्ष्य ऊंचा रखने दो जिसके जरिये वे सफलता की ऊंची उड़ान भर सकें। *

श्रीमती वर्मा ने कहा कि राज्य के युवाओं के सपने को धरातल पर उतारने और उनकी आकांक्षाओं को मूर्तरूप देने के लिये झारखण्ड सरकार कृतसंकल्पित है । दूरगामी सोच और कार्ययोजना के साथ राज्य के बच्चों के सपनों को साकार करने में झारखण्ड सरकार जुटी है ताकि आर्थिक व सामाजिक विकास में युवाओं का हाथ मजबूत हो सके । श्रीमती वर्मा ने बताया कि युवाओं को बेहतर कौशल विकास के तहत प्रशिक्षण प्राप्त हो इस निमित राज्य सरकार ने 700 करोड़ रुपये का उपबंध किया है। मेगा स्किल डेवलपमेंट सेंटर की स्थापना की गई है। गुणवत्ता युक्त प्रशिक्षण के लिये सिंगापुर कंपनी के साथ राज्य सरकार डव्न् कर गुणवत्ता पूर्ण प्रशिक्षण सुनिश्चित किया गया।

उच्च एवं तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग के सचिव श्री अजय कुमार सिंह ने कहा कि स्किल समिट 2018 के माध्यम से युवाओं में सकारात्मक ऊर्जा का संचार हुआ है। युवा वर्ग आशान्वित है। उनमें पढ़ने और आगे बढ़ने की प्रवृत्ति में अभिवृद्धि हुई है। स्किल झारखण्ड की ओर अग्रसर राज्य के लिये स्किल समिट मील का पत्थर साबित होगा। इस कार्यक्रम के पूर्व माननीय मुख्यमंत्री जी ने 25 हजार नियुक्तियां करने का लक्ष्य निर्धारित किया था। लक्ष्य प्राप्ति की दिशा में विभिन्न विभागों की संचालित योजनाओं को समाहित और युवाओं को प्रशिक्षित किया गया। मेगा स्किल डेवलपमेंट सेंटर के माध्यम से युवा प्रशिक्षित हुए। स्कूल , कॉलेज में कार्यक्रम संचालित हुए। 14 स्थाई प्लेसमेंट सेंटर स्थापित हुए। 210 कैंपस प्लेसमेंट का आयोजन हुआ और आज राज्य सरकार अपने लक्ष्य से 25 हजार से कहीं ज्यादा 27 हजार 842 युवाओं को नियुक्ति पत्र वितरित कर रहें हैं।

श्री सिंह ने बताया कि रांची के 5893 और पूर्वी सिंहभूम के 4074 युवाओं को इस स्किल समिट 2018 में नियुक्ति पत्र मिला है। टॉप 6 सेक्टर में युवाओं को रोजगार प्रदान किया गया है। सबसे अधिक 43 हजार रुपये मासिक की नौकरी राज्य के युवाओं को मिला है। राज्य सरकार लगातार युवाओं को रोजगार व स्वरोजगार से जोड़ने हेतु प्रयत्नशील है। सरकार का प्रयास है कि राज्य के युवा कुशल और हुनरमंद बनें।

फिल्म निदेशक श्री सुभाष घई ने कहा कि झारखंड के बच्चे होनहार और प्रतिभावान हैं। जरूरत हैं उन्हें सही दिशा प्रदान करने की।

*आज झारखण्ड इतिहास रच रहा है। विदेशों में पढ़ाई के साथ साथ कौशल विकास पर भी जोर दिया जाता है वहां की पढ़ाई कौशल विकास पर ही आधारित है। *

श्री घई ने बताया कि उनके पिता चाहते थे कि मैं नौकरी करूं, लेकिन मैं मालिक बनना चाहता था। इसके लिये मैंने खुद को जाना अपने कौशल को पहचाना। आपको भी अपने आप को जानना होगा। मैंने अपने जीवन में बहुत काम किये हैं अब अपने कौशल से युवा पीढ़ी को अवगत कराना है।

महिंद्रा एंड महिंद्रा के एम एन सिंह ने कहा कि देश की कंपनियों को अब स्किल्ड कामगारों की जरूरत है। गुणवत्ता पूर्ण ग्राहक सेवा के लिये यह जरूरी है। झारखण्ड सरकार ने राज्य के युवाओं को मौका दिया है तो युवा आने वाली पीढ़ी के लिये रोल मॉडल बनें ताकि आनेवाली पीढ़ी उनसे प्रेरणा ले सफलता की ओर बढ़े। राज्य सरकार भी गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा के लिये प्रशिक्षित शिक्षक उपलब्ध कराये। समय की मांग के अनुरूप युवाओं को प्रशिक्षण मिले ताकि बच्चें कुशल बन सकें , इससे राज्य का परिदृश्य बदलेगा।