मुख्यमंत्री सह सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के प्रधान सचिव

 

श्री संजय कुमार ने कहा कि जीत और हार एक प्रक्रिया है लेकिन सबसे अच्छी बात है कि आपने किसी प्रतियोगिता में भाग लिया। उन्होंने कहा कि झारखण्ड प्रकृतिक संपदाओं से भरा प्रदेश है। यहाँ के मनोरम दृष्य को कैमरे में कैद कर के कोई भी छायाकार आनंदित महसूस करेगा। उन्होंने कहा कि सूचना एवं जनसंपर्क द्वारा यह पहल की गई है कि हमारे युवाओं में जो प्रतिभा है उसे निखारा जाये। वे आज आर्ड्रे हॉस में सूचना एवं जनसंपर्क विभाग, राष्ट्रीय डिजाइन संस्थान, झारक्राफट द्वारा आयोजित झारखण्ड फोटोग्राफी कॉन्टेस्ट 2017 के पुरस्कार वितरण समारोह में उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे।

 प्रधान सचिव ने कहा कि इस तरह के समारोह से छिपी हुई प्रतिभा को लोगों के सामने लाने में मदद मिलती है। श्री संजय कुमार ने कहा कि यह एक अच्छा प्रयास है इससे फोटोग्राफर के हुनर को  निखारने का अच्छा मौका दिया जा रहा है। इस तरह के आयोजनों से प्रतिभागियों को एक अच्छि पृस्टभूमी मिल पाति है। उन्होंने कहा कि इस आयोजन को विभाग द्वारा नियमित रूप से प्रत्येक वर्ष कराने पर कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि एक छायाकार के कैमरे से जो तस्विर ली जाती है वह कई ऐसी बाते कह जाती है जिसे शब्दों में ब्यान नहीं किया जा सकता।

ज्ञातव्य हो कि सूचना एवं जनसंपर्क विभाग, राष्ट्रीय डिजाइन संस्थान झारक्राफट एवं पिक्चर झारखण्ड द्वारा 19 अगस्त से 29 दिसम्बर तक झारखण्ड फोटोग्राफी कॉन्टेस्ट 2017 हेतु सभी इच्छुक प्रतिभागियों से तस्विरें मंगवाई गई थीं। जिसमें लगभग 2 हजार फोटोग्राफ आए जिसमें से 100 बेहतरीन तस्विरें चयनित किये गए। इनमें से आज 25 अच्छे तस्विरों को चयनित किया गया। इसमें से सिमडेगा के सुनील कुमार को सबसे अच्छि तस्विर के लिये समानित किया गया।

आर्ड्रे हॉस में 4 जनवरी तक फोटोग्राफी से संबंधित विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। कल 29 दिसम्बर को पिक्चर झारखण्ड फोटो एक्जिविसन, फोटो वाल्क, सिल्क प्रोडक्सन इन झारखण्ड, टेस्ट ऑफ झारखण्ड का आयोजन किया जा रहा है।