मुख्यमंत्री ने किया राष्ट्रीय खादी एवं सरस महोत्सव का उद्घाटन

 

मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को रांची के मोरहाबादी मैदान में आयोजित राष्ट्रीय खादी एवं सरस महोत्सव का उदघाटन किया। आयोजन स्थल का नाम राष्ट्रपिता ‘महात्मा गांधी ग्राम’ रखा गया है। इस खादी सरस मेले में  देश के 22 राज्यों से कुटीर उद्योग से जुड़े लोगों और कारोबारियों ने अपने सामान की प्रदर्शनी लगाई है।

‘’देश के लिए कुछ करना, समाज के लिए कुछ करना हर झारखण्डवासी का कर्तव्य है। महात्मा गांधी ने स्वदेशी वस्तुओं के इस्तेमाल का संदेश दिया। खादी ग्रामोद्योग बोर्ड, बापू के सपने को सच करने में जुटा है।‘’ – रघुवर दास, मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार राज्य में लघु व मध्यम उद्योगों को बढ़ावा दे रही है। श्री दास ने कहा, ‘’इसके लिए मुख्यमंत्री लघु व मध्यम उद्यम बोर्ड का गठन किया गया है। इसमें गांव के लोगों को प्रशिक्षित कर रोजगार व स्वरोजगार से जोड़ा जाएगा। राज्य के 32 हजार गांव में से 28 हजार गांवों में विलेज कॉ-ऑर्डिनेटर बनाये जा चुके हैं।‘’

श्री दास ने कहा कि दिसंबर के अंत तक बचे हुए गांवों में भी विलेज कॉ-ऑर्डिनेटर बना दिये जायेंगे, ये कॉ-ऑर्डिनेटर अपने गांव में 15-15 गरीब लोगों का समूह बनायेंगे। इन सभी लोगों को सरकार कौशल विकास का प्रशिक्षण देगी।

मुख्यमंत्री ने गांव-गांव को रोजगार से जोड़ने की दिशा में कहा कि उत्पादित सामग्री की खरीद भी सरकार ही कर लेगी। श्री दास ने कहा कि गांव में समृद्धि आयेगी, तो राज्य भी समृद्ध होगा।

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के मीठी क्रांति के नारे का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री कहा कि मीठी क्रांति पर राज्य में तेजी से काम हो रहा है। श्री दास ने कहा, ‘’मधुमक्खी पालन में झारखंड अग्रणी भूमिका निभा सकता है। 25 हजार किसानों को इससे जोड़ा जा रहा है। 10-12 जिलों में मीठी क्रांति की शुरुआत की जायेगी।‘’

‘’मधु को झारमधु के नाम से देश-दुनिया में बेचा जायेगा। इससे किसानों को अच्छा मूल्य मिल सकेगा। राज्य के होटलों के साथ ही विमानों में भी झारमधु बिके इसका प्रयास किया जायेगा।‘’ – रघुवर दास, मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार महिलाओं को हुनरमंद बनाकर धागा निकलवाने का काम करेगी, इन धागों से कपड़ा और कपड़े से रेडिमेड कपड़े तैयार किये जायेंगे और इन्हें देश-दुनिया में बेचा जायेगा।‘’ –  रघुवर दास, मुख्यमंत्री   

मुख्यमंत्री ने कहा, “रांची की तर्ज पर हर जिले में अरबन हाट खोला जायेगा। यहां गांव के कलाकार अपने उत्पादों को बेच सकेंगे। इसके अलावा तेल की पेराई को भी बढ़ावा दिया जा रहा है।‘’ श्री दास ने कहा कि दो लाख रुपये की मशीन से तेल की पेराई कर 10-12 हजार रुपये की कमाई की जा सकती है।

इस दौरान ग्रामीण विकास मंत्री श्री नीलकंठ सिंह मुंडा, नगर विकास मंत्री श्री सीपी सिंह, शिक्षा मंत्री श्रीमती नीरा यादव, खेल मंत्री श्री अमर कुमार बाउरी, पद्मश्री अशोक भगत, मेयर श्रीमती आशा लकड़ा, विधायक श्रीमती गंगोत्री कुजूर, श्री रामकुमार पाहन, डॉ जीतू चरण राम, खादी बोर्ड के अध्यक्ष श्री संजय सेठ, छत्तीसगढ़ खादी बोर्ड के अध्यक्ष श्री कृष्ण राय, दिल्ली खादी बोर्ड के अध्यक्ष जीएस रंगा, ग्रामीण विकास सचिव श्री अविनास कुमार समेत अन्य लोग मौजूद रहे।