मुख्यमंत्री ने की श्री नितिन गडकरी, श्री हर्षवर्द्धन और श्री अनंत कुमार से मुलाकात

मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने सोमवार को नई दिल्ली में केन्द्रीय सड़क, परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री, श्री नितिन गडकरी से मुलाकात की। श्री नितिन गडकरी ने रांची-जमशेदपुर राजमार्ग परियोजना के ठेकेदार को शीघ्र काम सम्पन्न करने का निदेष दिया। उन्होंने निर्देश दिया कि इस परियोजना का 50% काम पूरा होते ही 400 करोड़ की राषि शीघ्र निर्गत करें।

मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय पर्यावरण मंत्री श्री हर्षवर्द्धन, केन्द्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री, श्री अनंत कुमार से भी मुलाकात की। श्री नितिन गडकरी के साथ बैठक में राज्य में लंबित पड़ी परियोजनाओं पर बिन्दुवार चर्चा हुई। राज्य सरकार की ओर से जानकारी दी गई कि रांची-जमशेदपुर राजमार्ग परियोजना का 47% कार्य पूरा हो गया है।

इसी के साथ रांची रिंग रोड के सेक्शन-1, 2 को शीघ्र पूरा करने का भी निर्देश दिया गया है। रिंग रोड में सेक्शन-3,4,5 एवं 6 का कार्य पूरा हो चुका है। सेक्शन-7 का कार्य शीघ्र पूरा होने वाला है। बैठक में मुख्य सचिव, श्रीमती राजबाला वर्मा, विकास आयुक्त श्री अमित खरे, अपर मुख्य सचिव, प्रधान स्थानिक आयुक्त, झारखण्ड भवन, नई दिल्ली, श्री डी0के0 तिवारी, अपर मुख्य सचिव वित्त, श्री सुखदेव सिंह, माननीय मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव, श्री संजय कुमार, माननीय मुख्यमंत्री के सचिव, श्री सुनील कुमार वर्णवाल, भवन निर्माण के सचिव, श्री के.के. सोन के साथ एक उच्चस्तरीय बैठक हुई ।

बैठक के उपरांत केन्द्रीय पर्यावरण मंत्री श्री हर्षवर्द्धन के साथ मुख्यमंत्री की बैठक हुई । बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि डीम्ड फोरेस्ट लैण्ड के प्रावधान जो कि काफी पुराना है, जिसका नये सर्वेक्षण में स्वरूप बदल गया है, उसे वन संरक्षण अधिनियम 1980 के अंतर्गत वन भूमि नहीं माना जाना चाहिए। यदि राज्य सरकार के इस पक्ष को स्वीकार करते हुए ऐसी भूमि को गैर वानिकी उपयोग के लिए भारत सरकार की पूर्वानुमति की आवश्यकता नहीं होगी ।

उन्होंने केन्द्रीय मंत्री से आग्रह किया कि इस प्रावधान में ढील देते हुए राज्य को इस भूमि का उपयोग करने का अवसर प्रदान करें। इस पर केन्द्रीय पर्यावरण मंत्री ने शीघ्र ही निस्तारण करने के लिए अपने विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देश दिया।

क्षतिपूरक वनरोपण भूमि के लिये राज्य सरकार के उपक्रमों को भारत सरकार के उपक्रमों के बराबर माना जाए। इस पर भी केन्द्रीय मंत्री ने अपनी सैद्धांतिक सहमति जताई। राज्य में सिंचाई व्यवस्था को व्यवस्थित करने के लिए भी केन्द्र सरकार द्वारा हरसंभव सहायता देने का आश्वासन दिया।

बैठक में मुख्य सचिव, श्रीमती राजबाला वर्मा, विकास आयुक्त, श्री अमित खरे एवं प्रधान मुख्य वन संरक्षक, श्री संजय कुमार आदि उपस्थित थे।

इसी के साथ ही सोमवार को नई दिल्ली में मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने केन्द्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री श्री अनंत कुमार के साथ मुलाकात की। राज्य के 260 प्रखण्डों के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में एक जन औषधि केन्द्र खोला जायेगा। इसका उद्घाटन जनवरी महीने के पहले सप्ताह में केन्द्रीय मंत्री द्वारा किया जाएगा।

इसी के साथ जनवरी में ही देवघर में एक प्लास्टिक पार्क का शिलान्यास और एक CIPET का उद्घाटन किया जाएगा, जिसके लिए माननीय प्रधानमंत्री से समय का अनुरोध किया जाएगा। इसी प्रकार एक CIPET की शुरुआत जमशेदपुर में भी किया जाएगा। सिंदरी में HURL द्वारा स्थापित होने वाले प्लांट का शिलान्यास भी जनवरी में करने का निर्णय हुआ।

जन औषधि केन्द्र संचालन स्थानीय स्तर पर युवाओं द्वारा किया जाएगा। ज्ञात हो कि प्रत्येक केन्द्र के लिए केन्द्र सरकार द्वारा 2 लाख 50 हजार की आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है।